मौलाना साकिब रज़ा ने ऐसा क्या कहा जिस पर मौलाना तारिक जमील साहब जोर जोर से रोने लगे…देखिये विडियो

January 18, 2019 by No Comments

अस्सलाम वालेकुम दोस्तों ,जो नसीहत को माने और बिना देखे रब को माने यह अहम है वरना जो देखकर यकीन करें तो उसने क्या यकीन किया। क्योंकि फिरौन ने भी कहा था कि मैं मूसा के रब पर ईमान लाता हूं, ऐसे लोग हैं जो चांद के दो टुकड़े होते हुए देख कर भी ईमान नहीं लाएं एक मदीने के लोग थे जिन्होंने कुछ भी नहीं देखा फिर भी कहा कि या रसूल अल्लाह हम आप पर जान वार देंगे.
उन्होंने कहा कि महबूब वह तेरा इंतजार कर रहे हैं तेरी राह तक रहे हैं। यह आपका दिल ही तो है जो बिन देखे सौदा करता है. बहुत सारे लोग होते हैं जिनके पास अगर कोई इंसान आता है बिखरे बाल हो बुरी सी हालत में हो तो आप उसे धक्का देते हैं कि बाबा बाहर जाओ लेकिन आपने फरमाया है कि कभी उन्हें छोड़ना मत क्योंकि अगर उन्होंने अल्लाह की कसम खा ली तो अल्लाह आपको पलट देगा.

google


यह बुखारी की रिवायत है कि अगर वह अल्लाह पर कोई कसम डाल दें तो अल्लाह उनकी कसम को पूरी करता है और उनकी कसम की लाज रखता है क्योंकि यह उसके सच्चे बंदे होते हैं. एक बार का वाकया है बगदाद का बाजार था की एक हलवाई सुबह-सुबह अपनी दुकान से जा रहा था और सामने से एक फकीर गुजरा उसने लकड़ी की खड़ाऊ पहनी थी तो उस आदमी ने देखा और कहा बाबा जी आओ बैठो, फिर उस हलवाई ने गरम गरम दूध निकाला और बाबा को पेश किया.
इस फकीर ने दूध को पी लिया फिर उसने अल्लाह का शुक्र किया और उस हलवाई का भी शुक्र अदा किया। जब वह आगे बढ़ा तो एक औरत सीढ़ियों पर अपने यार के साथ बैठकर मौसम का मजा ले रही थी। क्योंकि उस फकीर ने लकड़ी की खड़ाऊ पहनी थी और थोड़ी थोड़ी बारिश हो रही थी तो उस खड़ाऊ की वजह से फीचर कभी दाएं उचलता तो कभी बाय अछल्ता.
ऐसे में एक कीचड़ का छठ उस औरत के मुंह पर जा गीरा। यह देखकर औरत के यार को बहुत गुस्सा आया और उसने उठकर उस फकीर को एक थप्पड़ मारा और कहा कि फकीर बने फिरते हो तुम्हें तो चलने की भी तमीज नहीं है। उस फकीर ने आसमान की तरफ देखा और मुस्कुरा कर कहा ऐ मालिक तू भी बड़ा बेनियाज़ है कहीं से दूध पर लगाता है तो कहीं से थप्पड़ खिलता है.

google


कहा जाता है कि फकीर कब तक का खेल नहीं बनता है जब तक वह खुदा की रजा पर राज़ी नहीं हो जाता है. फकीर अपनी बात कह कर आगे बढ़ गया कुछ देर बाद वह औरत छत पर गई उसका पैर फिसला और वह सर के बल गिरी उसके सर पर ऐसी चोट आई की मौके पर ही उसकी मौत हो गई.
लोगों में है शोर मच गया वरुण उस फकीर में कोई बद्दुआ दी थी इसलिए उसके साथ ऐसा हुआ फकीर अभी बाजार के किसी कोने तक ही पहुंचा था किन लोगों ने उसको पकड़ लिया फकीर ने पूछा कि क्या हो गया इस पर लोगों ने कहा कि जरूर तुमने औरतों को बद्दुआ दी थी.

इसीलिए उसके साथ इतना बुरा हादसा हुआ उसने कहा कि मैंने तो कोई बद्दुआ नहीं दी लोगों ने उनकी बात नहीं मानी तब उसने कहा कि अगर सच्ची बात माने तो यह यारों यारों की लड़ाई है मेरी खड़ाऊ से कीचड़ की चीट उस औरत पर गई तो उसके यार को गुस्सा आया और उसने मुझे मारा अब इस बात पर मेरे यार को भी गुस्सा आ गया तो उसमें भी जवाब दे दिया.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *