इब्ने खराश की सच्चाई, मौलाना तारिक जमील साहब का ये बयान सुनकर हर किसी का ईमान ताज़ा हो जायेगा

December 14, 2018 by No Comments

इबनो खराश एक बुजुर्ग गुज़रे हज्जाअज के ज़माने में।इनमे सच्चाई बड़ी मशहूर थी।उनके 2 बेटों ने हज्जाअज के खिलाफ जंग लड़ी फिर वो भाग गए और छुपते हुए घर आय cld ने बता दिया कि खराश के बेटे आगये।हज्जाअज ने कहा आज इब्ने खराश के सच का इम्तिहान होगा।फिर उनको अपने घर खाने पर बुलाया और खाना खाते खाते कहने लगे कि हज्जाअज तम्हारे बेटे जिन्होंने हमसे जंग किया था.
वो कहा हैं देखो ज़िंदगी मौत तो अल्लाह के हाथ मे है उन्होंने कहा वो तो घर आगए है और घर पर ही बैठे हैं हज्जाअज ने कहा कि सलाम करता हूँ मैं तुमको आपके बेटों की ज़िंदगी हमने तोहफे में दे दी आपकी सच्चाई पर।वरना हम दोनों की गर्दन उड़ा देते।उन्होंने कहा कि मेरे नबी ने कहा हैं कि मेरा उम्मती सब कुछ कर सकता है लेकिन झूठ नहीं बोल सकता है धोखा नहीं दे सकता है औऱ आज देखो मेरे मुल्क के सभी लोग बाजार मे घरो में चंद तको की खातिर झूठ बोलने को तैयार है.

youtube


जिस कौम के पास करबला की तारीख है वहाँ खयानत और झूठ एक वो ज़माना था लोगो ने सब कुछ ज़बा करवा दिया लेकिन सच्चाई को नहीं छोड़ा जबकि यजीद की बैत करने में इस्तग़फ़ार का रास्ता मौजूद था आप और हम गर्मी में बैठ के माफी मांगे तो अल्लाह माफ करे या न करे लेकिन वो तो दूध पीते थे जब अल्लाह का हुक्म हुआ कि हसन और हुसैन जन्नत में नौजवानो के सरदार होंगे.
हसन पैदा हुए आपने अली से पूछा कि इनका क्या नाम रखोगे बोले हरम तो आपने कहा नहीं हसन रखो इसी तरह जब हुसैन पैदा हुए तो फिर आपने पूछा क्या नाम रखोगे अली बोले हरम यानी लड़ाका आप बोले नहीं हुसैन क्योंकि अल्लाह की तरफ से ये नाम आय हैं अल्लाह ने ये नाम हमारे बच्चों के लिए बचा के रखे थे वही बच्चे सच के लिए इस्लाम के लिए सर कटवा रहे हैं चलो फिर भी वो तो आला मकाम वाले थे क्या आपने यजीद के बेटे के बारे मे नहीं पता.

youtube


मुआविया बिन यजीद 22 बरस की उम्र में हुक्मरान बन गया।बाप 41 साल की उम्र में मर गया।3 बर्रे आज़म पर हुक़ूमत।40 दिन हुक़ूमत की और सारे बनो उमैय्या को इकट्ठा किया और कहने लगा कि दोस्तो मेरा बाप ज़ालिम था औऱ जिस तख़्त के नीचे हसन हुसैन के खून की साजिश हुई हो मैं लात मरता हूँ ऐसे तख़्त को.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *