मोहब्बत में क्यों बेवफ़ाई होती है?…हज़रत अली ने फ़रमाया जो इंसान अपने अंदरूनी मुआमलात..

March 5, 2019 by No Comments

मौला अली रज़ी अल्लाहु ताला अनहु से एक शख्स ने सवाल किया कि लोगों के दिलों से मोहबब्त कैसे खत्म हो जाती है,इसके जवाब में मौला अली रज़ी अल्लाहु ताला अनहु ने फरमाया कि दो बातों की वजह से लोगों के दिलों से किसी की मोहब्बत खत्म जाती है।उस में से पहला यह है कि किसी के परेशानी में मज़ाक करने से और किसी के खुशी में ताना देने से मोहब्बत खत्म हो जाती है।
इस लिए किसी से ऐसे मौके पर मज़ाक नहीं करना चाहिए,और न ही किसी को ताना देना चाहिए।दोस्तों हमेशा लोगों से मोहब्बत से पेश आना चाहिए,अपने रिश्तेदारों,पड़ोसीयों और आस-पास वाले सब ही लोगों के हुक़ूक़ की अदायगी की जाये और अल्लाह और रसूल की मुक़र्रर करदा हुदोद में रहते हुए उन की इज़ाफ़ी ख़िदमत-ओ-मदद करें।

दोस्तों हम यहाँ पर आप कुछ बातें बताने जा रहे हैं,जिससे लोगों के दिलों में मोहब्बत पैदा होती है।किसी से मुलाक़ात की इब्तिदा सलाम से की जाये.ग़ैर मुस्लमानों से भी मुहज़्ज़ब अंदाज़ में मिला जाये,बीमारों की तीमार-दारी की जाये,मुसीबतज़दा की मदद की जाये,इन के अंदरूनी मुआमलात की सुन गुण में ना रहा जाये.
इन की ज़ाती ग़लती या कोताही की तशहीर ना की जाये,उन्हें दुरसतगी और हक़ की दावत दी जाये,अल्लाह के दीन की दावत दी जाती रहे,अल्लाह और इस के रसूल क्रीम मुहम्मद सिल्ली अल्लाह अलैहि वाली आला वसल्लम की इताअत-ओ-फ़रमांबर्दारी की दावत दी जाती रहे।दोस्तों अगर हम किसी के लिए अच्छा चाहेंगे तो वह दूसरे लोग हमारे लिए अच्छा चाहेंगे।
इसलिए हमेशा लोगों के साथ में भलाई के साथ में पेश आयें,ताकि लोग हम से मोहब्बत करें।और हमारे ज़िम्मे जिस के जो हक़ हैं,वह हक़ अपने वक़्त पर पूरा करते रहें।इस से दो दिलों में मोहब्बत पैदा होती है।और तफसील के लिए नीचे दिए गये लिंक पर क्लिक करके विडियो देखे..

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *