MP चुनाव से पहले भाजपा को लगा बड़ा झटका, संतों ने किया ये एलान

November 24, 2018 by No Comments

जबलपुर: लगातार चौथी बार सरकार बनाने के लिए शिवराज सरकार कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। संतों के सम्मेलन ”नर्मदे संसद” में शुक्रवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ”मां नर्मदा के साथ अन्याय करने वाला कलयुगी पुत्र” तथा ”साधु संतों के साथ धोखा करने वाला व्यक्ति” करार देते हुए उन्हें पद से हटाने के लिए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को समर्थनदेने का संकल्प लिया गया. संत सम्मेलन ”नर्मदे संसद” का आयोजन पटदर्शन संत समिति के अध्यक्ष संत कंप्यूटर बाबा की अगुवाई में जबलपुर के ग्वारीघाट क्षेत्र में किया गया था. नर्मदे संसद में शिरकत करने अन्य प्रदेशों के भी संत पधारे थे.

सियासी उथल-पुथल में शिवराज सरकार में मंत्री रहे संत कंप्यूटर बाबा अब मुख्यमंत्री के खिलाफ ही मैदान मे उतर गए हैं। शुक्रवार को जबलपुर में ‘नर्मदे संसद’ का विशाल कार्यक्रम आयोजन किया गया। जिसमें कि देश भर के करीब दस हजार से ज्यादा साधु संतों ने शिरकत की। गौरतलब है कि विगत अप्रैल माह में प्रदेश सरकार ने नामदेव त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा सहित पांच संतों को मंत्री का दर्जा प्रदान किया था. कुछ माह बाद कंप्यूटर बाबा ने मंत्री दर्जा से इस्तीफा दे दिया था.उनका कहना है कि रेत माफिया से नर्मदा नदी को बचाने तथा उनके संरक्षण का आश्वासन संत समाज को दिया था. मुख्यमंत्री बाद में मुकर गए और अपने रिश्तेदारों से मां नर्मदा का सीना छलनी करवाते रहे.

वही आचार्य प्रमोद कृष्णम ने जमकर शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ”मैं धन्यवाद देता हूं कंप्यूटर बाबा का जिनकी मन की बात पर कि प्रधानमंत्री ने कब्जा कर रखा था उसे अब साधु संतो तक पहुंचा दिया है। उन्होंने ये भी कहा कि शिवराज सरकार ने नर्मदा मे अवैध उत्खनन करवाया। शिवराज सरकार को सत्ता का अहंकार हो गया है वो भूल गए हैं कि बीते 15 साल से सरकार बनाने में साधु संतो का अहम रोल रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *