SP और BJP मिलकर भी नही तोड़ पाई मुख़्तार का तिलस्म,इस चुनाव में मिली शानदार जीत

November 5, 2018 by No Comments

प्रदेश की राजनीति में दो कट्टर विरोधी योगी और मुख्तार को भला कौन नही जानता,जहाँ योगी हिंदुत्व के हीरो बनकर उभरे वही मुख़्तार अंसारी अपने बाहुबल के वज़ह से मशहूर है लेकिन समय का चक्र बदला आज योगी यूपी के सीएम है वही मुख्तार अंसारी की राजनीति सिमट सी गयी है वो बस विधायक बन के रह गये है लेकिन ऐसे हालात में भी मुख़्तार का का जलवा अपने इलाके में बोल रहा है,उनके दबदबे का आलम ये है कि हाल ही में एक चुनाव में कांग्रेस को तो उम्मीदवार ही नही मिला,जबकि सपा को भाजपा का सपोर्ट भी बेकार निकल गया.

जाने मामला…
लोकसभा का चुनाव करीब है.जहाँ एक ओर छोटे से छोटे चुनाव में सभी पार्टियाँ अपनी ताकत अजमा रही है आलम ये है कि कई ज़गह प्रधानी के चुनाव में भी पार्टियाँ पूरी ताकत झोंक रही है.हाल ही में मऊ में एक चुनाव में सपा ने पूरी ताकत झोंकी लेकिन बाज़ी मुख्तार अंसारी के खेमे के हाथ लगी.

मऊ के डीसीएसके पीजी कॉलेज के चुनाव को सपा और भाजपा ने प्रतिष्ठा से जोड़ लिया,सपा की स्टूडेंट विंग समाजवादी छात्रसभा ने यहाँ से आरिज़ खान को उम्मीदवार बनाया था.आरिज़ खान को मुख़्तार विरोधी सभी नेताओ ने समर्थन दिया था लेकिन ये नकाफी सिद्द हुआ.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को तो अपने बैनर पर लड़ने लायक उम्मीदवार ही नही मिला.लेकिन ABVP ने समाजवादी छात्रसभा को बैक डोर से सपोर्ट किया.इस चुनाव में मुख़्तार अंसारी गुट ने निर्दलीय प्रत्याशी सुधांशु को उम्मीदवार बनाया था.

सुधांशु सिंह ने छात्रसभा के आरिज खान को 58 वोटों से हरा दिया.सुधांशु को 6 95 वोट मिले जबकि आरिज खान को 637 मत मिले. महामंत्री पद पर 771 वोट पाकर निलेश सिह ने कब्जा जमाया, जबकि दूसरे नंबर पर शुभम विश्वकर्मा रहे, जिन्होंने 290 वोट पाए.

इसी तरह आर्यन वर्मा 725 वोट पाकर उपाध्यक्ष बने, उनके प्रतिद्वंदि्व अभय कुमार यादव को 771 वोट मिले.गौरतलब है कि मऊ में अंसारी बंधुओं की मजबूत पकड है यहाँ छोटे से छोटे चुनाव में मुख़्तार अंसारी के परिवार का दखल रहता है.

PHOTO CREDIT-GOOGLE

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *