अखिलेश और शिवपाल के झगड़े को नेता जी चुटकी में सुलझा सकते हैं, बनाई ये रणनीति

दोस्तों इन दिनों समाजवादी पार्टी में जो झगड़ा चल रहा है उसको लोग अलग-अलग नजरिए से देख रहे हैं कुछ लोग कुछ रख कर रहे हैं तो कुछ ना कुछ कह रहे हैं लेकिन दोस्तों आप क्या आप जानते हैं कि इस झगड़े को मुलायम सिंह यादव एक झटके में खत्म कर सकते हैं जियो दोस्तो मुलायम सिंह यादव अगर चाहे तो एक चुटकी में इस झगड़े को खत्म कर दें दोस्तों झगड़ा शिवपाल सिंह यादव जो कि मुलायम सिंह यादव के भाई हैं और अखिलेश यादव जो कि मुलायम सिंह के पुत्र हैं और पूर्व मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं.
दोस्तों अखिलेश यादव एक पढ़े-लिखे युवा नेता है और वह अपने तरीके से पार्टी को चलाना चाहते हैं जबकि वही शिवपाल सिंह यादव भी अपने तरीके से पार्टी को चलाना चाहते हैं जिसके लिए चलते उन दोनों के बीच झगड़ा हुआ और दोनों ने अपनी अपनी पार्टी अलग अलग कर ली.

गुरुवार को मुलायम सिंह यादव ने अपने जन्मदिन की पार्टी मनाई जिसमें उनके पुत्र अखिलेश यादव तो बधाई देने के लिए पहुंचे लेकिन शिवपाल सिंह यादव नहीं पहुंचे.सा कि आप जानते हैं कि शिवपाल सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी से अलग होकर अपनी एक नई पार्टी बना ली है जिसमें मुलायम सिंह यादव कभी शिवपाल के साथ तो कभी अखिलेश यादव के साथ दिखाई देते हैं.

जानकारों की मानें तो यह बात निकलकर सामने आती है कि अगर मुलायम सिंह यादव चाहें तो इन दोनों की तकरार को खत्म कर सकते हैं और फिर से शिवपाल और अखिलेश को मिला सकते हैं दोस्तों यह तो हम सब जानते हैं कि सपा से अलग होकर शिवपाल सिंह यादव का कोई अस्तित्व नहीं बचेगा.इसी कड़ी में जो सफाई अखिलेश के खिलाफ थे वह शिवपाल सिंह यादव के साथ चले गए दोस्तों शिवपाल यह जानते हैं कि वह सपा से अलग होकर उनका कोई अस्तित्व नहीं बचेगा बल्कि वह सपा के वोट को ही बाटेंगे बात सामने आ रही है कि 2019 लोकसभा चुनाव के बाद हो सकता है कि शिवपाल और अखिलेश फिर से एक हो जाएं.

शिवपाल सिंह यादव ने अपनी एक अलग पार्टी बना ली हो लेकिन उनके दिल में सपा से दूर होने का दर्द अभी भी है और हो सकता है कि समय बदलते वह नरम पड़ जाए चलिए दोस्तों अब यह तो समय ही बताएगा कि आगे क्या होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.