हिमाचल चुनाव: अमित शाह का फ़ैसला भाजपा के लिए पड़ सकता है उल्टा..

हिमाचल प्रदेश में आज भारतीय जनता पार्टी ने अपने मुख्यमंत्री उमीदवार की घोषणा कर दी. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने वरिष्ट नेता प्रेम कुमार धूमल को भाजपा का मुख्यमंत्री उमीदवार घोषित किया है. धूमल समर्थकों के लिए तो ये बात बहुत अच्छी रही लेकिन जेपी नड्डा के समर्थक इस बात को पसंद नहीं कर रहे हैं.

हालाँकि नड्डा ने धूमल को बधाई दे दी है लेकिन पार्टी में अब गुटबाज़ी होने के आसार बढ़ गए हैं. असल में नड्डा इस बारे में आश्वस्त थे कि वही पार्टी के मुख्यमंत्री उमीदवार होंगे. चुनावी सर्वे भी यही इशारा कर रहे थे कि प्रदेश में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के बाद जनता जेपी नड्डा को पसंद करती है.

जानकारों के मुताबिक़ भाजपा अपनी चुनावी रैलियों से ये बात समझ गयी है कि स्थिति उसके लिए अच्छी नहीं है और अगर चुनाव जीतना है तो चांस तो लेना ही पड़ेगा. भाजपा इस बात को बख़ूबी समझ चुकी थी कि वीरभद्र को पब्लिक से सहानुभूति वोट भी मिलने वाला है. इसी को देखते हुए पार्टी ने ये क़दम उठाया है. जानकार लेकिन ये मान रहे हैं कि कांग्रेस ने भाजपा को दबाव में ले लिया है क्यूंकि वीरभद्र बार बार अपनी रैलियों में ये पूछ रहे थे कि भाजपा किसके नेतृत्व में चुनाव लड़ रही है. भाजपा ने इसका जवाब तो दे दिया लेकिन इसका उन्हें फ़ायदे के बजाय नुक़सान भी हो सकता है.

पहले ही बग़ावत झेल रही भाजपा के लिए ये नयी मुसीबत ला सकता है. कांग्रेस में इस फ़ैसले के बाद बजाय निराशा के उत्साह ही देखा जा रहा है. कांग्रेस के क्षेत्रीय नेता कह रहे हैं कि भाजपा ने हार से बचने के लिए प्रेम कुमार धूमल का नाम घोषित तो कर दिया है लेकिन कुछ फ़ायदा नहीं होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.