नायडू बने उपराष्ट्रपति, मोदी ने की प्रशंसा

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एम वेंकैया नायडू का आज राज्यसभा में अभिनंदन करते हुए कहा कि ग्रामीण और आम पृष्ठभूमि से आने वाले नायडू का इस पद पर पहुंचना भारत के संविधान की गरिमा और देश के लोकतंत्र की परिपक्वता को प्रदर्शित करता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने सदन और देशवासियों की तरफ से उन्हें बधाई देते हुए उनके कार्यकाल के लिए शुभकामनाएं भी दीं।

उन्होंने कहा, ‘‘अज 11 अगस्त‍ इतिहास के लिए एक महत्‍वपूर्ण तारीख से जुड़ा हुआ है। आज ही के दिन 18 साल की एक छोटी उम्र वाले खुदीराम बोस को फाँसी के तख्‍त पर चढ़ा दिया गया था। देश की आज़ादी के लिए संघर्ष कैसा हुआ, बलिदान कितने हुए और उसके परिपेक्ष्य में हम सबका दायित्व‍ कितना बड़ा है, इसका यह घटना स्‍मरण कराती है।

मोदी ने कहा कि हम सबका इस बात की ओर ध्‍यान जरूर जाएगा कि वैंकेया जी नायडू देश के पहले ऐसे उपराष्‍ट्रपति बने है, जो स्‍वतंत्र भारत में पैदा हुए हैं। वैंकेया ऐसे पहले उपराष्‍ट्रपति बने हैं, जो शायद अकेले ऐसे हैं, जो इतने सालों तक इसी परिसर में, इन सबके बीच में पले. बढ़े हैं। शायद इस देश को पहले ऐसे उपराष्‍ट्रपति मिले हैं, जो इस सदन की हर बारीकी से परिचित हैं। सदस्‍यों से ले करके समितियों से, समितियों से ले करके सदन तक की कार्रवाई से, स्‍वयं उस प्रक्रिया से निकले हुए यह पहले उपराष्‍ट्रपति देश को प्राप्‍त हो रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हिंदुस्‍तान के संवैधानिक पदों पर वो लोग बैठे हैं, जिनकी पार्श्वभूमि गरीबी की है, गांव की है, सामान्‍य परिवार से है। पहली बार देश के सभी सर्वोच्‍च पदों पर इस पृष्ठभूमि के व्‍यक्तियों का होना अपने आप में भारत के संविधान की गरिमा और भारत के लोकतंत्र की परिपक्वता को प्रदर्शित करता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.