ISIS की फ़र्ज़ी ख़बर चला कर नजीब के मामले को दबाया जा रहा है: शेहला राशिद

February 26, 2018 by No Comments

साल 2016 में दिल्ली की जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी से गायब हुए छात्र नजीब अहमद के मामले में सीबीआई मुख्यालय पर जेएनयू छात्र संघ के पूर्व उपाध्यक्ष शेहला राशिद के नेतृत्व में हुए विरोध प्रदर्शन किया गया। जिसमें अपने बेटे नजीब को इंसाफ दिलाने की मांग कर रही उसकी माँ भी शामिल हुई।  इस विरोध प्रदर्शन के बाद एक बार फिर से नजीब अहमद को बदनाम करने की कोशिश गई। सोशल मीडिया पर नजीब को आईएसआईएस से जोड़कर बदनाम करने की साजिश की जा रही थी। जोकि सफल नहीं हो पाई।

इस सन्दर्भ में शेहला राशिद ने ट्विटर पर ट्वीट कर बताया है कि कैसे मीडिया ने ये कोशिश नाकाम हुई। शेहला ने ट्वीट कर कहा है हमने कल सीबीआई हेडक्वार्टर के आगे नजीब गुमशुदगी मामले में प्रोटेस्ट किया था, लेकिन सोशल मीडिया पर मौजूद बीजेपी की ट्रोल ब्रिगेड ने यहाँ नजीब के ISIS से जुड़े होने की फ़र्ज़ी खबर चला दी।
शेहला ने इस ट्वीट में ट्विटर पर ABVP कार्यकर्ता गौरव झा और स्वराज्य मैगज़ीन की लेखिका शेफाली वैद्य के बीच इस मामले में हुई बातचीत का स्क्रीनशॉट भी शेयर किया है। जिसमें शेफाली ने ट्वीट किया है कि ये प्रोटेस्ट उसी नजीब के लिए हो रहा है जो ISIS के जुड़ा है। जिसपर ABVP कार्यकर्ता गौरव झा ने उन्हें जवाब देते हुए बताया है कि शेफाली जी, आपने जो आर्टिकल शेयर किया है, वह एक साल पुराना है और दिल्ली पुलिस इसे फ़र्ज़ी बता चुकी है। हालाँकि मेरी नजीब के साथ कोई संवेदना नहीं है, लेकिन मैं नहीं चाहता की आपकी क्रेडिबिलिटी खराब हो। इसलिए इस ट्वीट को डिलीट कर दीजिये। उन्होंने बताया है कि वो नजीब केरल से है और ये नजीब उत्तर प्रदेश से। दोनों के नाम एक होने के कारण गलती हो गई है।
इसके साथ शेहला ने कहा कि नजीब के खिलाफ फ़र्ज़ी खबर चलाकर उसे बदनाम करने के खिलाफ पिटीशन साइन करें और नजीब के परिवार को सपोर्ट करें। जब भी इस मामले में कोई प्रोटेस्ट किया जाता है, तभी नजीब के खिलाफ फ़र्ज़ी खबरें चला दी जाती है। नजीब एक बहुत ही होशियार लड़का है, जोकि अपने देश से बहुत प्यार करता है। नजीब के बहुत से दोस्त हिन्दू है। नजीब के फैमिली उसका आने के इंतज़ार बहुत से सब्र के साथ कर रही है, लेकिन बदले में उन्हें ये सब मिल रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *