नमाज के बाद दूसरा सबसे बड़ा हुक्म औरतों के लिए क्या है? अगर अमल नहीं किया तो…

January 27, 2019 by No Comments

अस्सलाम वालेकुम मेरे प्यारे भाइयों और बहनों. खवातीन से गुजारिश है जो बड़ी तादाद में बयान सुनती है उनके लिए सबसे बड़ा हुकुम नमाज के बाद है पर्दा। आज के जमाने में लड़कियों की बेपर्दगी ने दुनिया को बेहयाई का अड्डा बना दिया है. अगर औरत अपने आप को कंट्रोल कर ले तो मर्दो को कंट्रोल करना बहुत आसान हो जाएगा.
आज के वक्त में तो औरत ही किसी के कंट्रोल में नहीं है। आस्तिन छोटी होती जा रही है। हाफ स्लीव से स्लीवलेस तक लडकिया पहुंच गई हैं। अपने साथ साथ अपनी बच्चियों को भी लोग ऐसा ही पहनावा पहना रहे हैं वह अपनी बच्चियों को इस जमाने के अनुसार ढाल रहे हैं जबकि वह यह भूल रहे हैं कि यह उन्हें जहन्नुम की तरफ ले जाएगा.

google


हमारे प्यारे नबी ने फरमाया है कि कयामत जब करीब आएगी तब ऐसी औरतें पैदा होगी कि लिबास पहनने के बावजूद उनका जिस्म दिखाई देगा। उनके लिबास इतने महीन होंगे कि उनमें से उनकी चमड़ी दिखाई देगी या इतने चुस्त कपड़े होंगे कि उनके शरीर की हर बनावट दिखाई देगी.
जिस हिसाब से आज के जमाने में लड़कियां जींस ,पैंट या स्कर्ट पहन रही है उसको रोकने की जरूरत है. आप अपनी बच्ची को पहले फ्रॉक या सलवार कमीज पहनाए और एक स्कार्फ लगा दे उसकी एक तस्वीर ले, उसके बाद आप उसी बच्ची को जीन्स शर्ट पहना कर तस्वीर ले और उन दोनों तस्वीर में आप अपनी बच्ची को देखें आपको खुद फर्क समझ में आ जाएगा.
आप क्यों अपने ही हाथों से अपनी बच्ची को जहन्नुम में धकेल रहे हैं बच्चियां तो कच्ची मिट्टी की तरह होती हैं उनको आप जिस अंदाज में ढालेंगे वह उसी तरह ढल जायँगी तो क्यों ना अपनी बच्चियों को हम अच्छी तालीम दे और उन्हें अल्लाह की राह पर चलना सिखाए उनको पर्दा करना सिखाए.

औरत तो हया का लिबास है। वह अपने शौहर के लिए ज़ीनत इख्तियार करें। जैसा चाहे उसके सामने पहने जैसा चाहे ना पहने बल्कि शौहर के लिए तो ऐसे कपड़े पहने कि वह उसके अलावा किसी और की तरफ देखे भी न, आजकल की औरतें तो महफिलों में जाने के लिए ऐसे तैयार होती हैं जैसे ही कोई दुल्हन तैयार हो लेकिन जब शोहर घर आता है तो वही औरत बुरी हालत में रहती हैं जैसे लगता है कि वह सोचती हो कि मां बाप ने तो मुझे इसकेे पल्ले बांध ही दिया है। यह कौन सा कहीं भाग जाएगा। लेकिन औरत की इन्हीं हरकतों की वजह से जब उसके शौहर का इधर उधर चक्कर शुरू हो जाता है तब वह परेशान हो जाती हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *