एरदोगन के आगे झुका NATO, मांगनी पड़ गयी माफ़ी

November 18, 2017 by No Comments

दुनिया के सबसे ताक़तवर सैन्य संघठन माने जाने वाले नाटो को तुर्की के आगे झुकना पड़ा है. हालाँकि ग़लती भी नाटो की थी तो ऐसा करना उनके लिए मजबूरी हो गया. असल में हुआ ये कि नाटो एक तकनीशियन ने तुर्की रिपब्लिक के फाउंडर मुस्तफ़ा कमाल अतातुर्क की पिक्चर को एनिमी चार्ट में दिखा दिया था. जैसे ही ये बात आला अधिकारियों को पता चली, तकनीशियन को तुरंत हटा दिया गया. एक अन्य मामले में नार्वेजियन ऑफिसर ने राष्ट्रपति रजब तय्यिप एरदोगन को बदनाम करने की कोशिश की.

जैसे ही ये बात तुर्की के आला अधिकारियों को पता चली, नाटो और तुर्की के बीच रवैया तल्ख़ हो गया. राष्ट्रपति एरदोगन ने घोषणा कर दी कि तुर्की नाटो ड्रिल का हिस्सा नहीं बनेंगा. तुर्की के राष्ट्रपति के सख्त रवैये से नाटो अधिकारियों के होश उड़ गए और जल्दी जल्दी मामले को निबटाने की कोशिश की जाने लगी.

नाटो के सेक्रेटरी जनरल जेन्स स्तोल्तेंबर्ग ने तुर्की के चीफ ऑफ़ स्टाफ़ हुलुसी अकर से कनाडा में हुई एक मीटिंग में कहा कि वो इस घटना के लिए शर्मिंदा हैं. इसके लिए उन्होंने अपना माफ़ी-सन्देश तुर्की के राष्ट्रपति को भी भेज दिया.अकर ने इस बारे में कहा कि इस मामले की अच्छे से छानबीन होनी चाहिए और जो भी नाटो का इस्तेमाल करके नाटो अलाईस को नुक़सान पहुंचाने चाहता हो उसका पता लगाया जा सके.

गौरतलब है कि तुर्की के राष्ट्रपति एरदोगन को बदनाम करने की इससे पहले भी कोशिशें होती रही हैं लेकिन नाटो के अन्दर इस तरह के लोग काम कर रहे होंगे ये किसी ने नहीं सोचा था.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *