मोदी को लेकर नितीश कुमार ने दिया ये बयान, भाजपा के होश उड़ गये…

January 21, 2019 by No Comments

दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं कि बिहार में लालू यादव और नीतीश सिंह के गठबंधन की सरकार थी जिसके बाद नीतीश सिंह ने लालू यादव से गठबंधन को छोड़कर भाजपा से गठबंधन करके सरकार बना ली लेकिन आपको याद होगा कि साल 2013 में नीतीश ने भाजपा से गठबंधन तोड़ दिया था.
जब उनसे यह सवाल किया गया कि साल 2013 में आप भाजपा से अलग हो गए थे तो उन्होंने इस पर जवाब दिया कि उस वक्त का फैसला मेरा बिल्कुल ठीक था उस वक़्त के फैसले को गलत नहीं कह सकता क्योंकि उस वक्त भाजपा और मेरी सोच अलग हो गई थी लेकिन आज भारतीय जनता पार्टी और नीतीश कुमार की सरकार बिहार के विकास के बारे में साझा सोच रखती है.

google


लेकिन राम मंदिर और भी सारे मुद्दे पर हम लोगों की सोच अलग है लेकिन बिहार के विकास पर हम लोगों की सोच साझा है बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहली बार यह बात स्वीकार की कि साल 2013 में उन्होंने बीजेपी से अलग होकर 17 साल का गठबंधन तोड़ने के पीछे उस समय प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को लेकर उनकी आशंकाएं थी लेकिन वह आशंकाएं गलत साबित हुई.
नीतीश कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संप्रदायिक छवि की वजह से साल 2013 में हमें अपनी पार्टी उनसे अलग करनी पड़ी थी जब उनसे पूछा गया कि अब ऐसा क्या हुआ कि उनकी पार्टी फिर से उनके साथ गठबंधन करने लगी तो उन्होंने जवाब दिया कि उस समय की परिस्थिति अलग थी और उस समय नरेंद्र मोदी को लेकर उनकी आशंकाएं थी लेकिन वह गलत साबित हुई.

google


नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी पार्टी का भारतीय जनता पार्टी से बहुत पुराना गठबंधन है और बहुत पुराना रिश्ता है, दोस्तों को बता दें कि उत्तर प्रदेश में भी बीएसपी और सपा का गठबंधन हो चुका है और सीट का बंटवारा हो चुका है जिसको लेकर दोनों पार्टी ने अलग अलग रणनीति बना ली है और इसी के साथ राहुल गांधी ने अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *