गुजरात विधानसभा चुनाव में भी नहीं होगा EVM में पेपर ट्रोल

नई दिल्ली: गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर आ रहीं अपुष्ट ख़बरों के मुताबिक़ चुनाव आयोग ने बड़ा फ़ैसला किया है. चुनाव आयोग ने गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए पेपर ट्रोल का इस्तेमाल ना करने का फ़ैसला किया है. सूत्रों से मिली ख़बर के मुताबिक़ ये फ़ैसला इसलिए लिए गया है कि चुनावी नतीजे जल्दी आ जाएँ और पेपर ट्रोल होने से ये नतीजे 3 घंटे देरी से आयेंगे.

ख़बरों के मुताबिक़ चुनाव आयोग इन चुनावों में VVPAT मशीने तो लगाने को तैयार है पर उनमें पेपर ट्रोल नहीं लगाएगा. हालाँकि कुछ चुनिन्दा क्षेत्रों में पेपर ट्रोल की भी मौजूदगी रहेगी.

चुनाव आयोग के इस फ़ैसले पर प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गयी है. आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असद उद्दीन ओवैसी ने सवाल किया है कि चुनाव में ट्रांसपेरेंसी के लिए कुछ घंटों का इन्तिज़ार क्यूँ नहीं किया जा सकता.

चुनाव आयोग पिछले दिनों EVM मशीनों में गड़बड़ी को लेकर लगातार विवादों में रहा है.उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने EVM गड़बड़ी का इलज़ाम लगाया था वहीँ पंजाब विधानसभा चुनाव में EVM की शिकायत अरविन्द केजरीवाल ने उठायी. EVM को लेकर उठीं शिकायतों को चुनाव आयोग शांत नहीं कर सका है.

EVM में गड़बड़ी की शिकायत कई राजनीतिक दलों ने की थी, इसमें कुछ ऐसे दल भी शामिल हैं जो सत्ता में हैं. चुनाव आयोग ने भी सुप्रीम कोर्ट में बार बार ये कहा है कि वो पेपर ट्रोल की व्यवस्था करेगा लेकिन पेपर ट्रोल लगाने को लेकर चुनाव आयोग में एक उदासीनता नज़र आती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.