बुज़ुर्ग ने अपनी करोडो की प्रॉपर्टी जिलाधिकारी के नाम की , बोला – बेटे से परेशान हूँ क्युकि…

November 30, 2021 by 1 Comment

उत्तर प्रदेश के आगरा में एक चौकाने वाला मामला सामने आया है,जहाँ पर बुज़ुर्ग शख्स अपने बेटों से इतना आजिज़ आ गया कि उस ने अपने बेटों को कंगाल करते हुए सारा संपत्ति जिलाधिकारी के नाम कर दी.इस मामले की खुद शख्स ने जानकारी दी है और उस बताया है कि वह अपनी सारी दौलत जिलाधिकारी को सौंप रहा है.

बुजुर्ग व्यक्ति ने वसीयत की कॉपी भी आगरा सिटी मजिस्ट्रेट को सुपुर्द कर दी है.बुजुर्ग ने खुद इसकी जानकारी दी है.जानकारी के मुताबिक यह संपत्ति लगभग दो करोड़ रुपये की है. बताया जा रहा है कि बुजुर्ग पेशे से मसाला व्यापारी है और वह अपने बड़े बेटे से बहुत परेशान रहते हैं.इसी वजह से वह अपने बेटे को कुछ नहीं देना चाहते थे.

और सब कुछ जिलाधिकारी को दे दिया.आगरा के पीपलमंडी निरालाबाद निवासी गणेश शंकर पांडेय ने करीब 225 वर्ग गज की प्रॉपर्टी आगरा के जिलाधिकारी के नाम लिखवा दी है. बुजुर्ग का का कहना है कि काफी सोच समझने के बाद उन्होंने यह कदम उठाया है.

बुजुर्ग ने बताया घर में किसी चीज की कमी नहीं है. सब आराम से चल रहा है.उनका बड़ा बेटा दिग्विजय,बहू और दो पोते-पोती उनके साथ ही रहते हैं लेकिन कुछ समय से दिग्विजय लगातार संपत्ति के एक चौथाई हिस्से की मांग कर रहा है, जो उनकी परेशानी का सबसे बड़ा कारण है.

वह उन्हें बहुत ज्यादा परेशान करता रहता है जिसकी वजह से वह बहुत दुखी रहते हैं,यही वजह है कि अब वह बेटे को कुछ नहीं देंगे.और अपनी दौलत से बेटे को बेदखल कर देंगे. बुजुर्ग गणेश शंकर पांडेय का कहना है कि उन्होंने कई बार कोशिश की कि दिग्विजय को व्यापार पर बैठाया जाए या उसे समझाया जाये लेकिन वह सुनने को तैयार ही नहीं है

Image

और संपत्ति के लिये परेशान करता है.उन्होंने बताया कि इसी उलझन के चलते जिलाधिकारी को ही सारी संपत्ति दे दी.वहीं इस संबंध में शनिवार को सिटी मजिस्ट्रेट ए.के सिंह का कहना है कि उनके पास एक बुजुर्ग आये थे,जो पीपल मंडी निरालाबाद के रहने वाले हैं.

उन्होंने अपने बेटे से परेशान होने की बात कही और अपनी पूरी प्रॉपर्टी जिलाधिकारी के नाम लिखवा दी है.इसके लिये वह रजिस्टर्ड वसीयत भी लाये थे,मजिस्ट्रेट ने उनसे प्रॉपर्टी के सारे कागजात ले लिये हैं.और अब आगे की कायवाही की जायेगी.

Image

One Reply to “बुज़ुर्ग ने अपनी करोडो की प्रॉपर्टी जिलाधिकारी के नाम की , बोला – बेटे से परेशान हूँ क्युकि…”

  1. Ashok Jain says:

    Ekdam sahi kia is bujurg ne Aise ha ami beto ko ausahi sabak sikhaya jata hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *