तेज़ गेंदबाज़ ओवैसी इस तरह बने सियासी दिग्गज,दोस्त अभिषेक ने किया…

November 28, 2018 by No Comments

राजनीति मे ज़रा भी रुचि रखने वाला कोई भी शख्स ऐसा न होगा जिसने AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का नाम न सुना हो।उनकी छवि एक तेज़ तर्रार नेता की है।संसद के अंदर और बाहर दोनों जगह असदुद्दीन औवेसी अपनी बात बड़ी बेबाक़ी और बिना किसी ख़ोफ़ के रखते हैं।उनकी राजनीति आम तौर मुसलमानों के मसाइल के आस पास ही रहती है।

लेकिन आप को जानकर हैरानी होगी कि शैरवानी पहने हुए दाढ़ी वाले इस नेता को अपनी जवानी के दिनों मे राजनीति मे दिलचस्पी नहीं थी।जी हाँ उनको राजनीति के बजाय क्रिकेट मे दिलचस्पी थी।निज़ाम कालेज से ग्रेजुएशन के दौरान असदुद्दीन अपनी कालेज टीम का एक अहम हिस्सा थे।

Photo Source-owaisi facebook page

वैसे तो वह हरफनमौला खिलाड़ी थे लेकिन उनका ज्यादा ध्यान तेज़ गैंदबाज़ी पर था।उनके साथ खेलने वाले बताते हैं कि उनकी गेंदबाज़ी परफॉर्मेंस इतनी अच्छी रहती थी कि एक समय लोकल लीग में उनका नाम वेंकटेश प्रसाद के साथ लिया जाता था।मज़े की बात यह है कि असदुद्दीन क्रिकेट के लिए क्लास भी बंक किया करते थे।

Photo-RAJYASABHA TV

लेकिन उनके पिता सलाहुद्दीन औवेसी चाहते थे कि की वह वकालत की पढ़ाई करे।फ़िर क्या था असदुद्दीन औवेसी को अधूरे मन से पढ़ने के लिए लंदन भेज दिया गया।बस यहीं से उनका और क्रिकेट का साथ छूट गया।लंदन मे उनका वक़्त काफ़ी मुश्किल था। वह खाना बनाना नहीं जानते थे और लंदन में बावर्ची की सहूलियत भी नहीं थी।

उन दिनों उनके एक दोस्त थे अभिषेक जो पश्चिम बंगाल के रहने वाले थे,उन्होंने असदुद्दीन को बरसों तक खाना पका कर खिलाया।लंदन में औवेसी ने जैब खर्च निकालने के लिए कई पार्ट टाइम काम किए।आप को जानकर हैरानी होगी कि वह कभी स्टोर में हेल्पर बने तो कभी उन्होंने सफाई का काम किया ।यहाँ तक की उन्होंने पोंछा लगाने तक का काम भी किया।

1994 में असदुद्दीन ने अपनी वक़ालत पूरी कर ली।इसके बाद भारत लोट कर वह राजनीति मे सक्रिय हो गये।इस समय वह हैदराबाद लोकसभा सीट से सांसद हैं और AIMIM के अध्यक्ष हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *