CM योगी के विवादित बयान पर ओवैसी ने किया पलटवार-‘आपकी यह मजाल…’

November 26, 2018 by No Comments

हैदराबाद: इस्लाम के चौथे ख़लीफ़ा हज़रत अली का सम्मान मुस्लिम भी करते हैं और हिन्दू भी. परन्तु हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक ऐसा बयान दे दिया जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया. आदित्यनाथ ने हाल ही में कहा,”मैं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ का बयान पढ़ रहा था। उन्होंने कहा कि उन्हें एससी, एसटी वोटों की जरूरत नहीं है। उन्हें सिर्फ मुस्लिमों के वोट की जरूरत है। आप अपने अली को रखो, हमारे लिए बजरंग बली काफी हैं।” योगी के इस बयान के बाद कई नेताओं ने प्रतिक्रिया दी है.

AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश में जाकर तमाम हदों को पार करते हुए हिंदुस्तान के संविधान की धज्जियां उड़ा दी और अपने भाषण में कहते हैं कि आप अली को रख लो हमारे लिए बजरंग बलि काफ़ी हैं. उन्होंने कहा,”अफसोस इस बात का है कि किसी के सीने पर जूं नहीं रेंगती 2 दिन हो गए लेकिन किसी ने भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के इस बयान पर कोई भी राय नहीं रखी जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने आगे कहा की यकीनन इस मुल्क में कोई भी किसी धर्म पर चल सकता है किसी भी मजहब को नहीं भी मान सकता है मगर क्या आप हिंदुस्तान के नियम कानून को ताक पर रखकर अपने हाथ से बाहर जा कर कर से बाहर जा कर कर आपकी यह मजाल कि आप यह कहेंगे अली तुम्हारे हमारे लिए बजरंग बलि ही काफी है।”

ओवैसी ने आगे कहा कि यह बात ठीक है और आप को फ़ख्र होना चाहिए कि आप बजरंगबली के भक्त हो हो लेकिन यह कहा ठीक है कि आप यह कहें कि तुम अली को रख लो हमारे लिए बजरंगबली काफी है तो कि तुम अली को रख लो हमारे लिए बजरंगबली काफी है तो लो हमारे लिए बजरंगबली काफी है तो मेरा बयान यह है कि और मुझे मालूम है कि कल सुबह के अखबार और टीवी चैनलों पर यह दिखाया जाएगा कि असदुद्दीन ओवैसी ने असदुद्दीन असदुद्दीन ओवैसी ने फिर दिया भड़काऊ भाषण लेकिन कोई फिक्र नहीं है इस बात का मैं हम गर्व से कहते हैं हां अली हमारे हैं इंशाल्लाह’।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने भोपाल में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, ‘‘ मैं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ का बयान पढ़ रहा था। उन्होंने कहा कि उन्हें एससी, एसटी वोटों की जरूरत नहीं है। उन्हें सिर्फ मुस्लिमों के वोट की जरूरत है। आप अपने अली को रखो, हमारे लिए बजरंग बली काफी हैं।’’ हज़रत अली (रज़ी अल्लाह) चौथे खलीफा हैं। वह इस्लाम के पैंगबर हज़रत मोहम्मद के चचरे भाई और दामाद हैं। ओवैसी ने कहा कि आदित्यनाथ की टिप्पणी मुसलमानों का ‘अपमान’ है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *