तलाक़ तलाक़ चिल्लाने वाली भाजपा को ओवैसी के इस बयान से लगा सदमा,बोली…

September 25, 2018 by No Comments

नई दिल्ली: एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को हिन्दू महिलाओं पर टिप्पणी करके एक नया बखेड़ा खड़ा कर दिया है, जिससे हिन्दू संगठनों के पदाधिकारियों में काफी ग़ुस्सा पैदा हो गया है । गौरतलब है कि असदुद्दीन ओवैसी ने हिन्दू महिलाओं पर टिप्पणी करते हुए कहा कि गर्भपात मुख्यत: हिंदू समुदाय में होता है, जिसे मोदी सरकार लगाम नहीं लगा पा रही है। उनके इस बयान को भाजपा ने “आदिम एवं महिला विरोधी” बताया है ।


हैदराबाद से सांसद ने 2001 की जनगणना पर अदालत में दावा किया कि काफी संख्या में आत्महत्या करने वाली विवाहिता या दहेज के लिए हत्या का शिकार बनने वाली महिलाएं हिंदू होती हैं, जिनको सरकार अपनी गणना में नहीं गिनती है क्योंकि वो हिन्दू महिलाएं हैं । बैरिस्टर असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीटर पर लिखा कि 2001 की जनगणना के मुताबिक गर्भपात मुख्यत: हिंदुओं में होता है, आत्महत्या करने वाली ज्यादातर विवाहित महिलाएं हिंदू हैं, भारत में परित्यक्त महिलाओं और निराश्रित महिलाओं की ज्यादा संख्या हिंदुओं में है ।

हालांकि ओवैसी ने एक अखबार के लेख तीन तलाक को गैरकानूनी बनाने से महिलाओं को लाभ नहीं होगा, इस पर टिप्पणियों को ट्वीट किया था लेकिन हिंदत्व के तथाकथित ठेकेदार उनके इस टिप्पणी को महिला विरोधी करार दे दिया । ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहाद उल मुसलमीन के नेता के बयान पर पलटवार करते हुए तेलंगाना भाजपा के प्रवक्ता कृष्ण सागर राव ने कहा, “ओवैसी की मानसिकता का भंडाफोड़ हो गया है और उनके ये बयान पुरातन और महिला विरोधी हैं”

भाजपा प्रवक्ता कृष्ण सागर राव ने पीटीआई से कहा, लगता है कि वह कट्टरवादी मानसिकता से अंधे हो गए हैं और 84 फीसदी आबादी की तुलना 15 फीसदी से कम आबादी से करना निराधार है उनका ये बयान बेतुका है । ऐसे बयान देकर असदुद्दीन ओवैसी फिर से सुर्ख़ियों में बन गए हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *