ये हैं वो 7 सीटें जिन पर है ओवैसी की पार्टी का क़ब्ज़ा, जानिए इस बार के समीकरण

November 16, 2018 by No Comments

चारमीनार: मौजूदा विधायक-सैयद अहमद पाशा क़ादरी, चुनाव लड़ेंगे- मुमताज़ अहमद ख़ान
तेलंगाना में हैदराबाद के चारमीनार विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से सय्यद पाशा अहमद क़ादरी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन पार्टी से मौजूदा विधायक हैं. परन्तु इस बार के चुनाव में यहाँ से मुमताज़ अहमद ख़ान उम्मीदवार हैं. मुमताज़ याकुत्पुरा से विधायक हैं. चारमीनार विधानसभा जो हैदराबाद शहर में 15 निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है. चामीनार विधानसभा सीट सबसे पहले 1967 में एआईएमआईएम ने जीती थी. तब सुलतान सलाहुद्द्दीन ओवैसी ने यहाँ से जीत दर्ज की थी, तब से लेकर आजतक कई रणनीति पार्टियाँ अपना चुकी हैं लेकिन मीम को यहाँ हराया नहीं जा सका. इस बार यहाँ से मुमताज़ अहमद ख़ान उम्मीदवार हैं, पार्टी एक बार फिर ये उम्मीद कर रही हैं कि यहाँ उसे बड़ी जीत हासिल होगी. कांग्रेस पार्टी ने चारमीनार से मुहम्मद गौस को टिकट दिया है वहीं भाजपा के बारे में कहा जा रहा है कि वो कोई शिया कम्युनिटी का उम्मीदवार यहाँ से खड़ा कर सकती है.

याकुत्पुरा: मौजूदा विधायक- मुमताज़ अहमद ख़ान, चुनाव लड़ेंगे- सैयद अहमद पाशा क़ादरी
याकुत्पुरा विधानसभा सीट भी मीम का गढ़ कही जाती है. हालाँकि इस सीट पर भी कई पार्टियाँ नज़रें गड़ाए बैठी हैं. भाजपा की ओर से चरमनी रूप्राज को उम्मीदवार बनाया गया है. सैयद अहमद पाशा क़ादरी यहाँ से चुनावी मैदान में उतरेंगे. कहा जा रहा है कि यहाँ मुमताज़ अहमद से लोग कुछ नाराज़ थे इसीलिए पार्टी ने क़द्दावर नेता को यहाँ उतारा है. ऐसा माना जा रहा है कि पाशा अपने क़द का लाभ उठा कर जनता का वोट पा सकते हैं. अभी महागठबंधन ने उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है.

चंद्रयानगुट्टा: मौजूदा विधायक- अकबरुद्दीन ओवैसी, चुनाव लड़ेंगे- अकबरुद्दीन ओवैसी
इस सीट से आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदउद्दीन ओवैसी के भाई अकबरुद्दीन ओवैसी विधायक हैं. अकबरुद्दीन ओवैसी के अपने समर्थक भी बड़ी संख्या में हैं. परन्तु उनके ऊपर कई बार विवादित बयान देने का आरोप लगता रहा है.भाजपा ने यहाँ से सैयद शहज़ादी को मैदान में उतारा है, कांग्रेस की ओर से बिनोबदी मिसरी मैदान में हैं. इस सीट पर अकबरुद्दीन को हराने के लिए विरोधी दलों को भारी महनत करनी होगी.

बहादुरपुरा: मौजूदा विधायक- मुहम्मद मोअज्ज़म ख़ान, चुनाव लड़ेंगे- मुहम्मद मोअज्ज़म ख़ान
बहादुरपुरा से मीम के मुहम्मद मोअज्ज़म ख़ान विधायक हैं. ये भी मीम का मज़बूत गढ़ है और पार्टी दावा कर रही है कि इस बार उसकी इस सीट से बड़ी जीत होगी. विपक्षी दलों का दावा है कि इस बार बहादुरपुरा ओवैसी के हाथ से निकल रहा है. इस सीट से भाजपा ने हनीफ़ अली को उम्मीदवार बनाया है. महागठबंधन ने अभी इसक लेकर कोई घोषणा नहीं की है.

मलकपेट: मौजूदा विधायक-अहमद बिन अब्दुल्लाह बलाला, चुनाव लड़ेंगे- अहमद बिन अब्दुल्लाह बलाला
मलकपेट सीट से मीम के अहमद बिन अब्दुल्लाह बलाला विधायक हैं. एक बार वो यहाँ से क़िस्मत आज़माने जा रहे हैं. मीम के कार्यकर्ता इस सीट को लेकर विशेष तैयारी कर रहे हैं. भाजपा ने यहाँ से अले जितेन्द्र को उम्मीदवार बनाया है जबकि तेदेपा के मुज़फ्फर अली ख़ान यहाँ से चुनाव में उतरेंगे.

नामपल्ली: मौजूदा विधायक-जाफ़र हुसैन मेराज, चुनाव लड़ेंगे- जाफ़र हुसैन मेराज
तेलंगाना की नामपल्ली विधानसभा सीट को लेकर मीडिया में अच्छी ख़ासी चर्चा है, कहा जा रहा है कि यहाँ से ओवैसी ने पार्टी को कमज़ोर देखा तो कूटनीति का सहारा लिया. विरोधी कह रहे हैं कि मीम ने हार के डर से टीआरएस प्रत्याशी का टिकट कटवा कर एक कमज़ोर प्रत्याशी को दिलवा दिया. टीआरएस नेता और मुख्यमंत्री केसीआर और ओवैसी के बीच मित्रता है, इसलिए उन्होंने ऐसा किया. नामपल्ली से कांग्रेस के मुहम्मद फ़िरोज़ ख़ान मैदान में होंगे.

करवान: मौजूदा विधायक- कौसर मुइनुद्दीन, चुनाव लड़ेंगे- कौसर मुइनुद्दीन
इस सीट से भाजपा के अमर सिंह मीम को टक्कर देंगे. मुइनुद्दीन पिछ्ला चुनाव 37 हज़ार से भी अधिक मत से जीते थे. यहाँ से मीम का मुक़ाबला भाजपा से ही रहा है. इस सीट को भाजपा ने 1985, 1989 और 1994 में जीता था. 1999 के चुनाव में मीम ने यहाँ परचम लहराया और तब से ही ये मीम का मज़बूत क़िला हो गया है, भाजपा ने कई बार कोशिश की दावे किए लेकिन अब तक वो कामयाब न हो सकी है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *