नवजात शिशुओं के लिए पाकिस्तान है सबसे “ख़तरनाक” देश

July 19, 2018 by No Comments

भारतीय उपमहाद्वीप के देशों का सेहत के विषय पर जो काम है वो निहायत अफ़सोसनाक है.पकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश में स्थिति ज़्यादा ख़राब है हालाँकि भारत में भी स्थिति कुछ बहुत बेहतर नहीं है. इसके बावजूद ये कहा जा सकता है कि स्वास्थ सेवाओं के लिए बांग्लादेश, श्रीलंका और भारत की सरकारें कुछ काम कर रही हैं जबकि पाकिस्तान इसमें पिछड़ रहा है. यूनीसेफ़ की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि नवजात शिशुओं के लिए पाकिस्तान बहुत ही अस्वस्थ देश है. बच्चों के जन्म की दृष्टि से देखा जाए तो पाकिस्तान सबसे अधिक जोखिम भरा देश है.

एसोसिएटेड प्रेस में छपी एक ख़बर के अनुसार पाकिस्तान में पैदा होने वाले 100 बच्चों में से 46 बच्चे अपने जैम के एक महीने के अन्दर मर जाते हैं.इसका अर्थ है कि पाकिस्तान में नीओ नेटल मोर्टेलिटी रेट बहुत अधिक है.यूनीसेफ़ ने ताज़ा रिपोर्ट में कहा है कि नवजात बच्चों के जन्म के लिहाज़ से अगर देखा जाए तो पाकिस्तान निहायत ही जोखिम भरा देश है. सन 2016 में पाकिस्तान में जन्मे प्रति हजार बच्चों में से 46 बच्चों की मौत, एक महीने का होने से पहले हो गई.

हालाँकि भारत की स्थिति पाकिस्तान से बेहतर है लेकिन यहाँ भी हालात बहुत अच्छे नहीं हैं. भारत को उन दस देशों में शुमार किया गया है जहाँ पर सर्वाधिक ध्यान देने की ज़रुरत है.यूनीसेफ़ बच्चों के कल्याण के लिए काम कारती है, ये संयुक्त राष्ट्र की संस्था है. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि जापान, आइसलैंड और सिंगापोर सबसे बेहतर देश हैं. यहाँ पर जन्म लेने के पहले 28 दिनों में प्रति हजार बच्चों पर मौत का केवल एक मामला सामने आता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *