फ़िलिस्तीनी लोगों को 10 साल बाद मिला ये तोहफ़ा

November 18, 2017 by No Comments

मिस्र-गाज़ा बॉर्डर को दस साल में पहली बार आज खोल दिया गया. 2007 के बाद ये पहला मौक़ा था जब इस बॉर्डर को खोला गया. असल में फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास और हमास के बीच मतभेद ख़त्म करने को लेकर कामयाब बातचीत के बाद ये फ़ैसला लिया गया है. मिस्र द्वारा ही ये बातचीत संभव हुई है.

बाहरी दुनिया के साथ गाज़ा का ये एकमात्र बॉर्डर माना जाता रहा है जो पिछले दस साल से बंद है. हालाँकि अभी ये राहत सिर्फ़ तीन ही दिन की है लेकिन ऐसी उम्मीद कि जा रही है कि जल्द ही फ़िलिस्तीनियों को हमास और अब्बास के समझौते से फ़ायदा होने लगेगा.

कुछ अन्य ख़बरें, एक नज़र में
1. श्रीलंका की पुलिस ने ये जानकारी दी है की मेजोरिटी बुद्धिस्ट और माइनॉरिटी मुसलमानों के बीच हुए विवाद में नस्ली हिंसा के बाद 19 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है. देश के दक्षिणी टाउन गल्ले में मुसलमानों पर किये गए इस हमले में 4 लोग घायल हो गए थे.

2. फ़्रांसिसी राष्ट्रपति इम्मानुएल मैक्रॉन ने लेबनान के पूर्व प्रधानमंत्री साद हरीरी का अपने देश में स्वागत किया. हरीरी ने लेबनान के प्रधानमंत्री पद से 4 नवम्बर को इस्तीफा दे दिया था. उसके बाद से ही लेबनान में राजनीतिक संकट की स्थिति है. इस बारे में सऊदी अरब और ईरान के बीच तनातनी का माहौल है.

3. ज़िम्बाब्वे में राजनीतिक संकट की स्थिति बनी हुई है. एक ओर सेना ने सभी सत्ता के केन्द्रों पर क़ब्ज़ा कर लिया है तो दूसरी ओर राष्ट्रपति रोबर्ट मुगाबे अभी भी पद पर हैं. हरारे में मुगाबे के ख़िलाफ़ आज जनता के एक समूह ने प्रोटेस्ट किया.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *