मोदी नही बन सकेंगे पीएम,सर्वे के नतीजों से बीजेपी से लेकर संघ मुख्यालय भी हिल गया

October 6, 2018 by No Comments

देश में होने वाले आगे लोकसभा चुनाव में अब ज्यादा वक़्त नहीं बचा है. 6 महीने के भीतर देश का अगला लोकसभा चुनाव होना है. इसके मद्देनज़र सभी पार्टियों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. वहीँ देश भर में लोकसभा चुनाव की सुगबुगाहट सुनाई दे रही है. ऐसे में बढ़ती सियासी सरगर्मियों के बीच अब लोकसभा चुनाव के भावी नतीजों को लेकर तमाम तरह के सर्वे सामने आने लगे हैं.

लोकसभा चुनाव की सुगबुगाहट

इस बीच अब एबीपी न्यूज और सीवोटर ने साथ मिलकर आगामी लोकसभा चुनाव पर एक सर्व किया है जिसके नतीजे अब आ चुके हैं. हालाँकि इसके नतीजे भाजपा के लिए खुशखरी लेकर आये हैं वहीँ कांग्रेस के खेमे में मायूसी छा रही है. दरअसल इस सर्वे के नतीजे के मुताबिक, अगली बार देश में फिर से मोदी सरकार बनने जा रही है.

फिर बन सकती है मोदी सरकार

हालाँकि इस सर्वे में यह भी बताया गया है कि देश में पिछली बार की तरह इस बार मोदी लहर नहीं चलेगी और इस बार भाजपा की सीटों में कमी आएगी. इस सर्वे में बताया गया है कि एनडीए को लोकसभा चुनाव में करीब 276 सीटों के आसपास मिल सकती है.

घट सकती हैं भाजपा की सीटें

वहीँ बात अगर कांग्रेस की की जाये तो इस सर्वे में कांग्रेस के करीब 80 सीटों के आसास सिमटते हुए बताया जा रहा है. ऐसे में यूपीए को करीब 112 सीटें मिल सकती हैं. इसके अलावा देश भर की अलग अलग रीजनल पार्टियों को कुल मिलकार 155 सीटें मिल सकती हैं.

कांग्रेस का प्रदर्शन खराब

वहीँ अब बात करते हैं देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश की. बता दें कि भाजपा को जो पिछली बार बहुमत मिला था, उसमे यूपी का अहम रोल था. ऐसे में अब भाजपा को यूपी का बड़ा सहारा है. हालाँकि पिछली बार यहाँ को मुख्य पार्टी बसपा और सपा ने अलग अलग चुनाव लड़ा था.

यूपी को लेकर संशय

लेकिन इस बार भाजपा से मुकाबला करने के लिए दोनों पार्टियाँ अगर साथ आ गईं तो अनुमान लगाया जा रहा है कि भाजपा के लिए 24 सीटें जीतना भी मुश्किल हो जायेगा. वहीँ दूसरी तरफ अगर बिहार में भाजपा अपने सहयोगी दलों को एक बार फिर से साथ लेने में कामयाब हो जाती है तो उसे बिहार से ठीक ठाक सीटें मिल सकती हैं. लेकिन फिलहाल बिहार में रामविलास पासवान से लेकर आरएलएसपी चीफ उपेंद्र कुशवाहा भाजपा से ख़ासा नाराज़ दिखाई दे रहे हैं, ऐसे में अगर वह कांग्रेस के साथ चले जाते हैं तो ज़ाहिर सी बात है कि इससे भारतीय जनता पार्टी को काफी नुकसान होने वाला है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *