पोप फ्रांसिस ने तुर्की के राष्ट्रपति को दिया ये गिफ्ट, कहा- इस्लामोफोबिया के खिलाफ एक एकजुट होकर लड़ेंगे

February 6, 2018 by No Comments

तुर्की: वेटिकन के दौरे पर पहुंचे तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तय्यिप एर्दोगन ने धर्मगुुरु पोप फ्रांसिस से मुलाकात की। इस मुलाकात में राष्ट्रपति एर्दोगन ने पोप फ्रांसिस के साथ अमेरिका द्वारा जेरुसलेम को इजराइल राजधानी घोषित किये जाने के मुद्दे पर बात की, इसके साथ उन्होंने सीरिया में चल रहे शरणार्थियों के संकट, साथ ही आतंकवाद और अंतरस्वास्थ्य संबंधों के विकास पर चर्चा की।

पोप ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के इस फैसले पर जेरुसलम की मौजूदा स्थिति की सुरक्षा के बारे की बात की। इसके साथ उन्होंने इस्लाम को आतंकवाद से जोड़ने की निंदा की। उन्होंने कहा, इस्लाम को आतंक से जोड़ना बिलकुल ही गलत है। उन्होंने कहा की सभी को इस झूठी समरूपता को बढ़ावा देने वाली किसी भी तरह की उत्तेजक टिप्पणी देने से बचाव करना चाहिए। क्यूँकि दुनिया में इस्लामोफोबिया का मुद्दा चिंताजनक है और इसपर सब को मिलकर काम करना होगा।

पोप फ्रांसिस ने ईसाई दुनिया को अपने संदेश में बताया था कि जेरुसलेम सिर्फ मुस्लिमों का ही मुद्दा नहीं है। हम एक साथ आकर इसकी रक्षा भी करनी होगी। 50 मिनट की मीटिंग के दौरान, पोप फ्रांसिस ने एर्दोगन को एक मैडल प्रदान किया जो जिसपर एक फरिश्ता बना हुआ था, जोकि शान्ति और न्याय का प्रतीक है, और बुराई के राक्षस का गला घोंट रहा था।

इस दौरान एर्दोगान ने पोप से कहा कि तुर्की कैथोलिक सहित सभी धर्मों के लोगों को मानता है, हम सद्भाव और शांति को बरक़रार रखना ही अपना सबसे पहला लक्ष्य लेकर चलते हैं। इस सन्दर्भ में तुर्की सरकार ने 14 चर्चों को बहाल किया है।

आपको बता दें की एर्दोगन ने कहा है कि मैं अपनी इस यात्रा को शांति के संदेश को व्यक्त करने के लिए एक “महत्वपूर्ण अवसर” के रूप में देख रहा हूँ। एर्दोगन लगभग छह दशकों में वेटिकन का दौरा करने वाला पहला तुर्की के पहले राष्ट्रपति है। इससे पहले पोप फ्रांसिस से उनकी मुलाकात साल 2014 में इस्तांबुल के दौरे के दौरान हुई थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *