मुस्लिम-दलित साथ आए तो UP में बनेंगे चौंकाने वाले समीकरण, महागठबंधन हुआ तो…

October 31, 2018 by No Comments

लोकसभा चुनाव की विशेष सीरीज़ में आप सभी का एक बार फिर से स्वागत है. इस सीरीज़ में हम रोज़ आपको चुनाव से जुड़े हुए समीकरणों के बारे में बताते हैं. आज हम आपको बताने जा रहे हैं उत्तर प्रदेश से जुड़े समीकरण की. उत्तर प्रदेश में अलग-अलग जातियों का राजनीति पर विशेष प्रभाव रहता है. देखा जाए तो जातिगत समीकरण और क़द्दावर नेतृत्व की वजह से आज उत्तर प्रदेश की राजनीति पूरे देश में चर्चा में रहती है.

आज हम जिस जातिगत समीकरण की बात कर रहे हैं वो है मुस्लिम और दलित का. प्रदेश की 22 करोड़ आबादी में 19% के क़रीब मुसलमान हैं जबकि दलितों की संख्या क़रीब 21 फ़ीसदी है. ऐसे में इन दोनों जातियों का प्रभाव बहुत रहता है. बहुजन समाज पार्टी राज्य में लम्बे समय से प्रभावी है और उसकी वजह उसका दलित वोट है जिसे अक्सर मुस्लिम समाज का साथ भी प्राप्त हो जाता है. ऐसा देखा गया है कि जब भी बसपा को मुस्लिम समाज का समर्थन मिला है पार्टी राज्य की विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी है.

Muslim Kids

प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों की बात की जाए तो ये दो जातियाँ अगर मिलकर एक ही पार्टी को वोट करें तो 30 से 34 सीटें जीत सकती हैं. कुछ और जातियों का समर्थन मिलने पर ये आँकड़ा 40 के पार हो सकता है. इस लोकसभा में 5 दलित सांसद हैं जबकि एक सांसद मुसलमान हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में एक भी मुस्लिम सांसद चुनाव जीत कर नहीं आया था लेकिन 2018 में जब कैराना लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव हुए तो रालोद के टिकट पर चुनाव में उतरीं महागठबंधन प्रत्याशी ने भारी मतों से जीत हासिल की.

बसपा को दलित समाज की सबसे बड़ी पार्टी माना जाता है लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में बसपा की एक भी सीट नहीं आयी थी, इसकी वजह ये रही कि दलितों ने भाजपा के पक्ष में वोट किया. परन्तु अब स्थिति फिर से कुछ इस तरह की बन रही है जो बसपा के लिए फ़ायदेमंद होगी. मुस्लिम समाज भी उसके पक्ष में आ सकता है और महागठबंधन होने की स्थिति में बसपा-सपा को एक दूसरे के पक्ष में पड़ने वाला वोट पड़ेगा. ऐसा होता है तो अन्य पिछड़ा वर्ग, दलित, मुस्लिम एक होकर वोट कर सकते हैं. ऐसा होने पर लोकसभा की 80 सीटों में से 70 सीटें तक ये महागठबंधन जीतने की क़ुव्वत रखता है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *