लेबनान में संकट की वजह सऊदी अरब है: क़तर

November 25, 2017 by No Comments

लन्दन: क़तर के विदेश मंत्री शेख़ मुहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल थानी ने कहा कि ISIS जैसे आतंकी संघठनों के ख़िलाफ़ अन्तराष्ट्रीय समाज को एकजुट होने की ज़रुरत है. अल थानी ने लन्दन में एक काउंटर-टेररिज्म को लेकर हो रही कांफ्रेंस में कहा कि अब अन्तराष्ट्रीय समाज को समझना चाहिए कि बहुत हो चुका.

लन्दन में दा वेस्टमिन्स्टर काउंटर-टेररिज्म कांफ्रेंस के दौरान बोलते हुए उन्होंने कहा कि क़तर आतंक का ख़ात्मा करने के लिए प्रतिबद्ध है और 2004 से ही क़तर ने इसे रोकने के लिए क़दम उठाये हैं और ऐसे संघठनों को होने वाली वित्तीय मदद पर लगाम लगायी है. उन्होंने कहा कि क़तर लगातार ये चाहते हैं कि नए दौर में आतंकवाद के ख़तरे से निबटने के लिए साझा कोशिश हो.थानी ने यहाँ सऊदी अरब की सरकार पर भी निशाना साधा.

थानी ने कहा कि सऊदी अरब की आवेशी लीडरशिप की वजह से क़तर को अलग करने की कोशिश हुई है और लेबनान में भी इसी वजह से संकट पैदा हुआ है. उन्होंने कहा कि लेबनान के प्रधानमंत्री ने सऊदी अरब की सरकार के दबाव में इस्तीफ़ा दिया है. गौरतलब है कि लेबनान के प्रधानमंत्री साद अल हरीरी ने सऊदी अरब की राजधानी रियाद में अचानक से ही इस्तीफ़े का एलान कर दिया था. थानी ने कहा कि रूल ऑफ़ लॉ के ज़रिये ही सारे काम होने चाहिए. उन्होंने कहा कि आतंकवाद के फैलने का एक कारण ये भी है कि न्याय की कमी है.

गौरतलब है कि क़तर से सऊदी अरब ने अपने सम्बन्ध तोड़ लिए हैं.सऊदी अरब के अलावा बहरीन, UAE और मिस्र ने भी क़तर से रिश्ते समाप्त कर लिए हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *