रात को देर तक जागने के क्या नुक्सान हैं? बहुत ज़रूरी है अमल करना नहीं तो आपकी…

December 29, 2018 by No Comments

अस्सलाम वालेकुम मेरे प्यारे भाइयों और बहनों आज हम बात करेंगे देर रात तक जागने के नुकसान बारे में। दोस्तों उस कुदरत के इंतजाम पर कुर्बान जाइए कि इंसान को रात को सोना है तो अपने घर की लाइट भी वह ऑफ कर देता है इंसान ऐसा इसलिए करता है क्योंकि उसको पता होता है कि उसको नींद उस वक्त आएगी जब अंधेरा होगा और अल्लाह ने ऐसा ही किया जब रात बनाई तो उन्होंने इंसानों के सुकून के लिए सूरज को भी हटा दिया ताकि इंसान आराम से सो सकें.
अब आप देखिए कि रात को हम कितने सुकून से सोते हैं ।लेकिन शायद ही मुस्लिम मुआश्रय में रात 3 बजे से पहले कोई सोता होगा. रात के 3 बजे तक सब लोग मोबाइल पर लगे रहते हैं कोई चैटिंग करता है कोई फेसबुक चलाता है तो कोई वीडियो कॉल करता है सभी लोग कहीं ना कहीं लगे होते हैं और दिमाग डाइवर्ट हो जाता है जबकि कुरान में भी यह लिखा है कि रात तुम्हारे सुकून के लिए बनाई गई है.

google


हम इंसान हैं कि सुकून हासिल करने के लिए तैयार ही नहीं है जबकि साइकोलॉजिस्ट भी यही कहते हैं कि टेंशन दूर करने के लिए आप रात को जल्दी सो जाया करें. जो बात कुरान 1400 साल पहले बता चुका है वह बात आज साइकोलॉजिस्ट बता रहे हैं। हमारे प्यारे नबी सल्लल्लाहू अलैहे वसल्लम ने फरमाया कि बिना जरूरत ईशा के बाद घर से निकला भी मत करो.
हां अगर कोई जरूरी काम है तो आप जा सकते हैं कई बार लोग सोचते हैं कि चलो रात को तफरी कर लेते हैं. दोस्तों से बातें कर लेते हैं लेकिन यह सब मना है। अल्लाह वालों की किरात कुरान ने बयान की है कुरान में अल्लाह ने फरमाया है कि अल्लाह वालों का सुकून शब्दों में होता है वह रात को बहुत मुक्तसर होते हैं.

google


अगर किसी को नींद नहीं आती है तो कुरान में उसका भी इंतजाम है आप नमाज पढ़िए इबादत कीजिए लेकिन आजकल की जनरेशन सिर्फ मोबाइल चलाती है अगर नींद आती भी है तब भी नहीं सोते हैं लोग देर रात तक चैटिंग करना गाने सुनना एफबी चलाना ज्यादा अच्छा लगता है सबको.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *