जम्मू-कश्मीर सियासत में राहुल गांधी के इस दाँव से कांग्रेस का होगा मुख्यमंत्री?

November 21, 2018 by No Comments

इस समय पाँच राज्यों में चुनाव हैं लेकिन सरकार बनाने को लेकर कवायद एक और राज्य में भी चल रही है. अभी कुछ समय पहले तक राज्य में भाजपा के गठबंधन की सरकार थी लेकिन अब ये राज्य कांग्रेस गठबंधन की सरकार देख सकता है. हम बात कर रहे हैं जम्मू-कश्मीर की. इस राज्य में पीडीपी-भाजपा गठबंधन के टूट जाने के बाद से ही राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है. परन्तु अब नई सरकार बनाने को लेकर बातचीत का दौर है. चर्चाओं का बाज़ार गर्म है कि कांग्रेस-पीडीपी-नेशनल कांफ्रेंस मिलकर सरकार बनाएँगी.

हालाँकि ये सरकार कैसी होगी इस बारे में अभी कुछ भी कहा नहीं जा सकता. सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री पद कांग्रेस के पास जा सकता है और नेशनल कांफ्रेंस के साथ पीडीपी बाहर से सरकार को समर्थन करेंगी. कांग्रेस नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद इस बारे में कहते हैं,”हम पार्टीज़ का ये कहना था कि क्यूँ न हम एक साथ हो जाएँ और सरकार बनाएं. अभी वो स्टेज सरकार बनने वाली नहीं है, एक सुझाव के तौर पर बातचीत चल रही है.” इस बारे में अंदर की ख़बर यही है कि पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस दोनों ही ऐसी कमज़ोर सरकार का नेतृत्व करने को राज़ी नहीं हैं.

नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी एक दूसरे के विरोधी भी हैं. ऐसे में नेशनल कांफ्रेंस के उमर अब्दुल्ला मुख्यमंत्री बनें या पीडीपी की महबूबा मुफ़्ती इस पर विवाद हो सकता है.इसलिए कांग्रेस का मुख्यमंत्री राज्य को मिल सकता है. ऐसी भी बातें हैं कि ग़ुलाम नबी आज़ाद मुख्यमंत्री चुने जा सकते हैं. इस मामले में सारी रणनीति राहुल गांधी बना रहे हैं.आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर विधानसभा में कुल 87 विधानसभा सीटें हैं. पीडीपी सबसे बड़ी पार्टी है जिसके पास 28 सीटें हैं जबकि भाजपा के पास 25 सीटें हैं, नेशनल कांफ्रेंस के पास 15 तो कांग्रेस के पास 12 विधानसभा सीटें हैं.7 सीटें अन्य के खाते में हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *