अब राजस्थान में पासवान ने खेला बड़ा दांव, ट्वीट से भाजपा कि मुश्किलें और बढ़ी, मोदी-शाह सदमे में

December 21, 2018 by No Comments

हेलो दोस्तों चुनाव से तुरंत पहले पाला बदलने के लिए मशहर और राजनीतिक वैज्ञानिक कहे जाने वाले केंद्रीय मंत्री विलास पासवान के बेटे चिराग पासवान की एक ट्वीट से बिहार की राजनीति गरमा गई है और राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है। चिराग नें बिहार में सिटों के बंटवारे को लेकर बीजेपी को अल्टीमेटम दिया और भाजपा को नुकसान उठाने की धमकी दी यह चेतावनी तब आई जब भाजपा पांच राज्यों में हार चुकी है.
पहली ट्वीट में लिखा है कि टीडीपी एवं रालोसपा के एनडीए गठबंधन से जाने के बाद एनडीए गठबंधन एक नाजुक मोड़ से गुजर रहा है ऐसे समय में भारतीय जनता पार्टी गठबंधन में बचे हुए साथियों की चिंता को समय रहते सम्मानजनक तरीके से दूर करें। चिराग पासवान का दूसरा ट्वीट यह है ।जो की धमकी से भरा हुआ था उसमें उन्होंने लिखा है कि गठबंधन की सीटों को लेकर कई बार भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से मुलाकात हुई लेकिन अभी तक कुछ भी ठोस बात आगे नहीं बढ़ पाई.

google


इस विषय पर समय रहते बात नहीं बनी तो इससे नुकसान हो सकता है। इसके बाद राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने चिराग पासवान को सलाह देते हुए कहा है कि लोक जनशक्ति पार्टी को जल्द से जल्द गठबंधन पार्टी से अलग हो जाना चाहिए वह छोटी पार्टियों को बर्बाद कर देना चाहते हैं हम तो बाहर आ गए अच्छी बात तो यह है कि यह बात लोजपा को भी समझ आ रही है.
ऐसे में माना जा रहा है कि 2019 के चुनाव में भाजपा और पीएम मोदी को बड़ा झटका लग सकता है सभी पार्टियां जनता के मूड को भाप कर अपनी-अपनी नीती बनाने में लगे हुए हैं पहले ही सीट बंटवारे को लेकर रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने मोदी को इस्तीफा देते हुए एनडीए से नाता तोड़ लिया है हम आपको बता दें कि इसी साल आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और टीडीपीएस ने मोदी सरकार से नाता तोड़ लिया था.

twitter


उसके बाद महबूबा मुफ्ती भी एनडीए से अलग हो चुकी है बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री ने भी एनडीए से नाता तोड़ लिया था आपको यह बता दें कि 2014 से पहले राम विलास पासवान यूपीए में थे। लेकिन फिर वह पाला बदलकर एनडीए में शामिल हो गए उनकी पार्टी लोजपा ने बिहार में 7 लोकसभा सीटों में से हटके पर जीत दर्ज की थी. उसके बाद रामविलास पासवान को मोदी सरकार में मंत्री बनाया गया था इससे पहले 2004 के आम चुनाव से पहले ही रामविलास पासवान एनडीए छोड़कर यूपीए में चले गए और केंद्र की मनमोहन सरकार में मंत्री बने थे.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *