RBI ने दिया RTI में चौंकाने वाला बयान-‘500 और 1000 के नोट मशीन से नहीं गिने गए हैं’

नई दिल्ली: केंद्रीय बैंक आरबीआई ने कहा है कि बंद किए गए 500 और 1000 रुपये के नोटों की गिनती के लिए मशीन का इस्तेमाल नहीं किया गया है।

इसके अलावा केंद्रीय बैंक द्वारा नोटों की गिनती के लिए लगाए गए कर्मियों की संख्या बताने से इंकार कर दिया है। इस बात का खुलासा सूचना के अधिकार कानून के तहत मांगे गए जवाब से हुआ है।

दरअसल 10 अगस्त को दायर की गई आरटीआई में नोटों की गिनने के लिए कितनी मशीनों का इस्तेमाल किया गया था, इस बात की जानकारी मांगी गई थी।

इसके जवाब में आरबीआई ने कहा, 500 और 1000 रुपये के नोटों की गिनती के लिए बैंक के किसी भी कार्यालय में मशीन का इस्तेमाल नहीं किया गया है।

इसके साथ बैंक ने बताया कि इस काम के लिए लीज पर भी कोई मशीन नहीं ली गई थी। आरबीआई ने ये बताने से मना कर दिया कि नोटों को गिनने के लिए कितनी कर्मचारियों को लगाया गया था। आरटीआई के जवाब में बैंक ने कहा कि आरटीआई अधिनियम, 2005 की धारा 7 (9) के अनुसार यह जानकारी नहीं दी जा सकती है।

नोट गिनने की शुरुआत कब से शुरू की गई थी, इस प्रश्न के जवाब में बैंक ने कहा कि नोटों की गिनती सतत रूप से जारी रही।

आपको बता दें कि 30 अगस्त को जारी सालाना रिपोर्ट में आरबीआई ने कहा था कि 15.28 लाख करोड़ मतलब कि 99 प्रतिशत 500 और 1000 रुपये के नोट बैंकिंग सिस्टम में वापस आये थे। वहीं, कुल 15.44 लाख करोड़ रुपए के नोटों में से 16,050 करोड़ रुपए के नोट वापस नहीं आए हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.