उम्मीदवारों की घोषणा होते ही बीजेपी को झटका,250 नेताओ ने एक साथ पार्टी छोड़ी

टिकट बटवारा राजनैतिक पार्टियों के लिए परेशानी का सबब बन गया है,राजस्थान में चुनाव पूर्व सभी पूर्व अनुमानों में भाजपा के हाथ से सत्ता जाती हुइ दिख रही है लेकिन अब भाजपा को एक और बड़ा झटका लगा है.भाजपा के करीब 250 नेताओ ने पार्टी छोड़ दी है.इन सबकी नाराज़गी की वज़ह टिकट बटवारा बताया जा रहा है.

भाजपा नेताओ ने पार्टी मुख्यालय में पहुच कर नारेबाजी की.भाजपा में इतनी बड़ी बगावत देखते हुए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने टिकट कटने वालों को मनाने की जिम्मेदारी केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को दी गई है.लेकिन बागी नेताओ मान नही रहे है अजमेर के किशनगढ़ से विधायक भागीरथ चौधरी का टिकट कटने से चौधरी के समर्थक इतने नाराज़ हो गये कि जयपुर मुख्यालय में घुसकर हंगामा करने लगे.

फाइल फोटो

इसके बाद नाराज बीजेपी कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री शेखावत का घेराव कर नारेबाजी शुरू कर दी.किसी तरह से केन्द्रीय मंत्री शेखावत मान मनौव्वल कर प्रदर्शनकारियों को बाहर लेकर आए और मैदान में जमीन पर बैठकर उनसे बातचीत करनी चाही.लेकिन हंगामा बंद नहीं हुआ.अंत में विरोध बढ़ता देख पुलिस बुलाना पड़ा.

फिलहाल भाजपा दफ्तर में चारों तरफ पुलिस की तैनाती कर दी गई है, ताकि कोई तोड़फोड़ नहीं हो लेकिन हंगामा कम नही हो रहा है.राजस्थान के किशनगढ़ में करीब 50 भाजपा नेताओ ने पार्टी को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. इसके अलावा करीब एक दर्जन जगहों पर विरोध प्रदर्शन जारी है. टिकट कटने के विरोध में ढाई सौ से ज्यादा भाजपा पदाधिकारियों ने आज पार्टी से इस्तीफा दे दिया.

भाजपा की एक रैली से ली गयी फ़ोटो

गौरतलब है कि राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए रविवार को भाजपा ने 131 उम्मीदवारों के नाम की पहली लिस्ट जारी की थी.भाजपा की इस पहली सूची में 85 वर्तमान विधायकों को टिकट थमाया गया है, वहीं 25 नए चेहरों को भी इस लिस्ट में शामिल किया गया है,भाजपा की पहली सूची में 12 महिलाओं को मौका मिला, वहीं 32 युवा चेहरों पर भी पार्टी ने विश्वास जताया है.टिकट काटने की नाराज़गी कांग्रेस में भी कम नही है लेकिन जितना बवाल भाजपा में हो रहा है कांग्रेस में बागी उतने नही है.वही दोनों पार्टिया डरी हुई है.राजनैतिक विश्लेषको के अनुसार बागी दोनों पार्टियों को काफी नुकसान पंहुचा सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.