बिहार- RLSP ने बढ़ाई भाजपा की मुश्किल, जदयू से अधिक सीटों पर ठोका दावा

October 18, 2018 by No Comments

2019 के चुनावों का बिगुल एक तरह से बज ही गया है। देश के अलग-अलग राज्यों में जहां बीजेपी के खिलाफ गठबंधन बनाने की तैयारियां चल रहीं हैं, वहीं बीजेपी के अपने गठबंधन यानी एनडीए की तस्वीरें भी अभी साफ होनी बाकी हैं। एनडीए के लिहाज से दो राज्यो में मामला फंसा नजर आ रहा था। एक महाराष्ट्र जहां एनडीए की घटक शिवसेना ने विद्रोही रुख अख्तियार कर लिया था, दूसरा बिहार जहां नीतीश, रामविलास पासवान और उपेंद्र कुशवाहा के साथ सीट शेयरिंग का फॉर्म्युला तय नहीं हो पा रहा था।

कुशवाहा और भूपेंद्र यादव की मुलाकात मानी जा रही है अहम

ताजा ख़बर के अनुसार गुरुवार की सुबह राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी सुप्रीमो व केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री उपेंद्र कुशवाहा की बिहार भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव से मुलाकात हुई। आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर राजग में सीट शेयरिंग के मुद्दे पर इस मुलाकात को बेहद अहम माना जा रहा है।

भाजपा-रालोसपा में सीट शेयरिंग पर चर्चा

सूत्रों के हवाले से जो जानकारी मिल रही है उसके अनुसार उपेंद्र कुशवाहा ने गुरुवार को दिल्‍ली में भूपेंद्र यादव से मुलाकात की। बताया जा रहा है कि इस दौरान दानों नेताओं में राजद से जुड़े अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। हालांकि, क्‍या बात हुई, इस बाबत फिलहाल कोई खुलासा नहीं हो सका है।

पहले अधिक सीटों की माँग कर चुके थे कुशवाहा

आपको बता दे आरएलएलपी प्रमुख और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र ने एक कार्यक्रम में कहा था कि आरएलएलपी ने 2014 लोकसभा चुनाव में 3 सीटों पर चुनाव लड़ा था और तीनों पर ही जीत हासिल की थी। आरएलएलपी के उपाध्यक्ष और पार्टी के प्रवक्ता जितेंद्र नाथ ने बयान दिया था कि ‘सीटों के बंटवारे को लेकर बीजेपी और जदयू में काफी बातचीत हो रही है और बाकी सहयोगियों के साथ भी थोड़ी सी बातचीत हुई है। हम जदयू से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं क्योंकि 4 सालों में हमारा जनाधार बढ़ा है। हमारे नेता उपेंद्र कुशवाहा बिहार का भविष्य हैं। अब समय आ गया है कि उनको बिहार में एनडीए का नेता बनाया जाए।’

उपेंद्र कुशवाहा और सीएम नीतीश कुमार की लड़ाई है जग जाहिर

आपको बता दें इससे पहले उपेंद्र कुशवाहा की मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से कई मौके पर तकरार हो चुकी है, एक बार तो मीडिया के सामने उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार को मुख्‍यमंत्री पद छोड़ने की नसीहत दी थी। कुशवाहा समय-समय पर बिहार सरकार की नीतियों व यहां की कानून-व्‍यवस्‍था आदि की। आलोचना करते रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *