रोहिंग्या के समर्थन में खुल कर आया भारत; म्यांमार पर डालेगा दबाव

नई दिल्ली: बंगलदेश के एक न्यूज़ चैनल की रिपोर्ट की माने तो भारत रोहिंग्या मुद्दे पर म्यांमार सरकार पर दबाव डाल रहा है. न्यूज़ चैनल ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना के प्रेस सचिव नज़रुल इस्लाम के हवाले से रिपोर्ट दी है जिसमें कहा गया है कि बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना और भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने फ़ोन पर बात की. दोनों नेताओं ने म्यांमार के रुख़ पर चिंता जतायी. इस बातचीत में सुषमा स्वराज ने बांग्लादेश के रुख़ का समर्थन किया और कहा कि इस मुद्दे पर जो रुख़ बांग्लादेश का है वही भारत का है.

दोनों नेताओं ने म्यांमार की सरकार पर दबाव बनाने की बात कही है ताकि वो रोहिंग्या रिफ्यूजी का दमन बंद करे और रोहिंग्या लोगों को अपने देश में वापिस ले.

शेख़ हसीना UN की जनरल असेंबली में रखेंगी विशेष प्रस्ताव
रोहिंग्या मुसलमानों के मुद्दे पर बेगम शेख़ हसीना यूनाइटेड नेशन के 72वें जनरल असेंबली सेशन में एक प्रस्ताव रखने जा रही हैं. इस प्रस्ताव पर वैश्विक नेताओं की नज़र है. बताया जा रहा है कि ये प्रस्ताव कोफ़ी अन्नान कमीशन द्वारा दी गयी सलाहों को जल्द लागू करने से जुड़ा हुआ है. शेख़ हसीना विश्व के नेताओं से भी ये अपील करेंगी कि वो इस मुद्दे पर एहम रोल अदा करें.

इस कमीशन ने म्यांमार सरकार को कहा था कि वो रोहिंग्या मुसलमान और रखीने के बौद्ध लोगों के बीच अलगाव ख़त्म कराये. इस प्रांत में म्यांमार सरकार को चाहिए कि मानवाधिकार का उल्लंघन करने वालों पर ज़िम्मेदारी तय की जाए और “फ्रीडम ऑफ़ मूवमेंट” दिया जाए. इस कमीशन ने कई और सलाहें भी दी थीं जिसके ज़रिये इस समस्या का निदान हो सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.