रोहिंग्या मुसलमानों के लिए 10000 टन मदद भेजेगा तुर्की

September 6, 2017 by No Comments

अंकारा: तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यिप एरदोअन ने रोहिंग्या मुसलमानों की मदद के लिए प्रयास तेज़ कर दिए हैं. उन्होंने इस सिलसिले में म्यांमार की नेता औंग सन सू की से भी बात की. एरदोअन ने बताया कि उन्होंने सू की से बात की है और कॉल के बाद उन्होंने दरवाज़े खोल दिए हैं.

अंकारा में जस्टिस एंड डेवलपमेंट पार्टी (AKP) की एक मीटिंग में राष्ट्रपति ने कहा कि तुर्की सेकंड स्टेज में 10000 टन की मदद भेजेगा जबकि प्राथमिक तौर पर 1000 टन की मदद भेज दी गयी है.

एरदोअन ने बताया कि 7 और 8 सितम्बर को उनकी पत्नी एमिने एरदोअन, उनका बेटा बिलाल एरदोअन, फॅमिली और सोशल पालिसी मंत्री फातमा बेतुल सायन काया, विदेश मंत्री मेव्लुत जवुसोग्लू समेत कई नेता बांग्लादेश जाकर जायज़ा लेंगे कि रोहिंग्या रिफ्यूजी कैंप में मदद पहुँच रही है या नहीं.

राष्ट्रपति ने बताया कि इस मुद्दे पर वो यूनाइटेड नेशन जनरल असेंबली में भी बात करेंगे जो कि 19 सितम्बर से शुरू हो रही है.

उन्होंने मीडिया में आ रही उन ख़बरों को संज्ञान में लिया जिसमें कुछ फेक तस्वीरों के ज़रिये त्रासदी को और बढ़ा कर दिखाया जा रहा है लेकिन उन्होंने कहा कि वास्तविकता है तभी इतने लोगों को यातना सहनी पड़ रही है.

गौरतलब है कि म्यांमार की सरकार के ऊपर लगातार ये आरोप लग रहे हैं कि उसने रोहिंग्या मुसलमानों के ख़िलाफ़ हिंसा को बढ़ावा दिया. म्यांमार की नेता औंग सन सू की के बारे में कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने यहाँ तक कहा कि उनका नोबेल शान्ति पुरूस्कार उनसे अब वापिस ले लेना चाहिए. म्यांमार की सरकार पर रोहिंग्या मुसलमानों का नरसंहार किये जाने के गंभीर आरोप लग रहे हैं.

संयुक्त राष्ट्र ने भी इस मामले में चिंता व्यक्त की है. इस मामले को कई देश संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद् में उठाने वाले हैं जिसको लेकर म्यांमार की सरकार डरी हुई है लेकिन म्यांमार सरकार को लगता है चीन या रूस उसके ख़िलाफ़ किसी भी प्रस्ताव में उसका ही पक्ष लेंगे.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *