दक्षिणपंथी संगठन आरएसएस के एजेंडे को इस तरह से बढ़ावा दे रही राजस्थान सरकार..

November 19, 2017 by No Comments

राजस्थान: जयपुर में 16 नवंबर से एक आध्यात्मिक हिन्दू मेले का आयोजन किया गया है। जिसे हिंदू आध्यात्मिक और सेवा फाउंडेशन द्वारा आयोजित किया गया है। ये संस्थाएं दक्षिणपंथी हिंदूवादी संगठन आरएसएस से जुड़ा हुआ है।
केंद्र में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से ही शिक्षा को धर्म के साथ जोड़ने, भारतीय इतिहास के साथ छेड़छाड़ और हिदुत्व के एजेंडे को बढ़ावा दिया जा रहा है।
जोकि देश की विविधता के लिए काफी खतरनाक विषय है। हिंदूवादी संगठन अन्य धर्मों के खिलाफ प्रचार कर रहे हैं।
बीजेपी शासित राजस्थान में आयोजित इस मेले में ऐसी किताबें बेचीं जा रही हैं। इस मेले में अन्य धर्मों के विरुद्ध एक कैंपेन चलाया जा रहा है।
खबर के मुताबिक, इस मेले में विहिप और बजरंग दल के सदस्य लव जिहाद के खिला प्रचार करते हुए बॉलीवुड ऐक्ट्रेस करीना कपूर की एक मॉर्फ तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है जिसमें उनके आधे चेहरे को नकाब से ढका दिखाया गया है और माथे पर एक बिंदी लगी हुई है।
गौरतलब है की करीना कपूर ने सैफ अली खान से शादी की है, जोकि एक मुस्लिम परिवार से ताल्लुक रखते हैं।
इसके अलावा इस मेले में 5 रुपये में एक बुकलेट बेची जा रही है, जिसमें हिंदू महिलाओं को मुस्लिमों को आतंकवादी, देशद्रोही, पाकिस्तानी समर्थक, व्यभिचारी और तस्कर जैसे शब्दों से परिभाषित करने की सलाह दी गई है।
इसमें हिन्दू लोगों को अपनी बेटियों की हरकतों पर ध्यान दे कि वह किससे मिलती है, किससे बात करती है और साथ ही मोबाइल पर भी नजर बनाने के लिए कहा गया है। राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार ने स्कूलों के शिक्षकों और छात्रों को जयपुर मेले में चल रहे इस मेले में जाने के निर्देश दिए गए हैं।
इसकी पुष्टि जयपुर एडिशनल एडुकेशन ऑफिसर दीपक शुक्ला ने करते हुए कहा है कि मेले के आयोजनकर्ताओं की मदद करने के लिए राज्य के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों से मेले में बच्चों को शामिल होने के लिए कहा गया है।

शुक्ला ने बताया कि यह निर्देश प्राइमरी एंड सेकेंडरी एडुकेशन मिनिस्टर वसुदेव देवनानी द्वारा दिए गए हैं। उन्होंने बताया है कि आयोजनकर्ता चाहते हैं कि मेले में 2,100 शिक्षक शामिल हों इसलिए हमने सभी स्कूलों से दो या तीन शिक्षकों को इस मेले में भेजने के लिए कहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *