मध्य प्रदेश को लेकर सट्टा बाज़ार के रुझान से सदमे में बीजेपी,कांग्रेस गदगद

मध्यप्रदेश-यहाँ बुधवार को हुए विधानसभा चुनाव मे कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर बताई जा रही थी।लेकिन अगर सट्टा बाजार की बात करें कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है। सट्टा बाज़ार मे कांग्रेस के बहुमत पर बराबरी का भाव लगा रहा है।इंदौर के सट्टा बाजार की बात करें तो यहाँ कांग्रेस को 116 से 118 सीटों पर बराबरी का भाव मिल रहा है।

सरल शब्दों मे इसका अर्थ है कि सटोरियों को लगता है कि कांग्रेस को 116 से 118 सीटें मिलने की संभावना है जबकि विधानसभा में बहुमत के लिए 116 सीटों की जरूरत है।वहीं सट्टा बाज़ार के हिसाब से बीजेपी को 99 से 101 सीटें ही मिलने के आसार हैं।इन आंकड़ों का मतलब यह हुआ कि बीजेपी की शिवराज सरकार ख़तरे मे है।पुलिस के खुफिया सर्वे में भी कांग्रेस को ही बहुमत मिलने के आसार बताए गए हैं खुफ़िया रिपोर्ट के मुताबिक पर ग्वालियर,भिंड,मुरैना,नीमच और झाबुआ में बीजेपी को बड़ा नुकसान होता दिख रहा है।

सूत्रों के मुताबिक जो खुफिया रिपोर्ट तैयार की गई है उसमें कांग्रेस को 123 से 129 के बीच जबकि बीजेपी को 93 से 96 के बीच सीटें मिलने का अनुमान बताया गया है,जबकि अन्य दलों को 5 से 7 सीटें मिल सकती हैं। यानी यहाँ भी कांग्रेस की सरकार बनने के आसार हैं।दिलचस्प बात यह है कि बीजेपी की टीम ने जो आंकलन किया है उसके अनुसार भी हर जिले में बीजेपी को एक से दो सीटों का नुकसान हो सकता है।

मध्यप्रदेश में इस बार 75 प्रतिशत से ज्यादा मतदान हुआ है जो 2013 के मुकाबले 3 प्रतिशत ज्यादा है। इससे भी जानकार अंदाजा लगा रहे हैं कि मध्यप्रदेश में व्यवस्था विरोधी रुझान अपना असर दिखा सकता है।शहरों के मुकाबले गांवों में सत्ताधारी पार्टी के खिलाफ ज्यादा रुझान नजर आया है जिसका कांग्रेस को फायदा हो सकता है।सूत्रों के अनुसार राज्य में मुख्यमंत्री शिवराज चौहान के प्रति बहुत ज्यादा नाराजगी नहीं थी।लेकिन नोटबंदी, फसल बीमा योजना की कमियाँ और जीएसटी को लेकर छोटे कारोबारियों का गुस्सा बीजेपी के ख़िलाफ़ जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.