तनाव के बीच अरब एकता की मिसाल, सऊदी अरब को..

October 15, 2018 by No Comments

सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खागोशी दो अक्टूबर को इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास गए थे, जिसके बाद से वह लापता हैं, काफी खोजबीन के बाद भी उनका पता नहीं चला। हालांकि तुर्की की तरफ से खाशोग्गी की हत्-या का दावा किया जा रहा है। अमेरिका और तुर्की ने भी सऊदी को चेतावनी देते हुए कहा है कि पत्रकार के लापता होने को लेकर सऊदी अरब को स्पष्ट राय रखनी होगी कि आखिर खाशोग्गी दूतावास से कैसे लापता हो गया।

आपको बता दें कि संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के विदेश मंत्री अनवर गार्गश ने मित्र राष्ट्र सऊदी अरब के लिए खुलकर पक्ष रखा और तुर्की और अमेरिका को दो टूक जवाब देते हुए कहा कि जो भी सऊदी अरब को निशाना बनाकर चिंगारी भड़का रहे हैं, गलत गलत अफवाहें फैला रहे हैं उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा इसलिए हमारे धैर्य का इम्तिहान न लें।

दरअसल अनवर ने सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खागोशी के लापता होने की घटना का उल्लेख किए बिना यह बात कही है और ऐसे मामलों में सऊदी अरब का हाथ न होने का भी संकेत दिया। गार्गश ने आगे बढ़ते हुए ये भी कहा कि रियाद के खिलाफ इस क्रूर अभियान की हमें उम्मीद है वो ऐसा कर सकता है उसके साथ आप वैसे कर सकते हो। लेकिन सऊदी अरब को निशाना बनाया तो ठीक नही होगा और निशाना बनाने वालों इसके नतीजे भुगतने के लिए भी तैयार रहना चाहिए।

सऊदी अरब ने भी इस मामले में अब कड़ा रुख़ अपना लिया है. अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा था कि अगर जमाल खाशोग्गी की हत्-या में सऊदी अरब का हाथ है तो सऊदी अरब को इसका अंजाम भुगतना होगा. अमरीका की इस धमकी पर सऊदी अरब ने तीख़ी प्रतिक्रिया दी है.

बीबीसी में छपी एक ख़बर के मुताबिक़ सऊदी अरब के एक अधिकारी ने बयान दिया है कि अगर सऊदी अरब के ख़िलाफ़ कोई भी एक्शन लिया जाता है तो इसका अंजाम बुरा होगा. अधिकारी कहते हैं कि सऊदी अरब इस तरह की धमकियों से डरने वाला नहीं है. सऊदी अरब ने तुर्की की ऑथरिटीज़ के आरोप को निराधार बताया है जिसमें कहा गया है कि खाशोग्गी की ह्त्-या सऊदी कांसुलेट में सऊदी एजेंट द्वारा की गयी है.

सऊदी अरब ने इस बारे में कहा है कि कोई भी एक्शन अगर सऊदी अरब के ख़िलाफ़ लिया जाता है तो उससे बड़ा एक्शन सऊदी अरब भी लेगा. सूत्रों के मुताबिक़ सऊदी सरकार का सोचना है कि सऊदी अर्थव्यवस्था ग्लोबल इकॉनमी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से जब इस बारे में पूछा गया कि अगर खाशोग्गी की ह्त्-या में सऊदी अरब का रोल है तो अमरीका के पास क्या विकल्प होंगे तो उन्होंने कहा कि इस बारे में विचार किया जाएगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *