त्रिपुरा में पत्रकार की हत्या के बाद धारा 144 लागू की गयी

इसी महीने की शुरुआत में देश की वरिष्ठ पत्रकार की बेंगलुरु में हुई हत्या का मामला अभी शांत नहीं हुआ है कि त्रिपुरा में टीवी पत्रकार सानतानु भूमिक की रिपोर्टिंग करते हुए कथित तौर पर हत्या कर दी गई है। घटना त्रिपुरा के मंडाई क्षेत्र की है।जानकारी के मुताबिक, सानतानु भूमिक रोड ब्लॉक करने की कोशिश कर रही भाजपा समर्थक आदिवासी पार्टी स्वदेशी पीपुल्स फोरम की रिपोर्टिंग कर रहे थे।

इसी दौरान सीपीएम और आईपीएफटी के बीच लड़ाई हो गई और किसी ने तेज धार वाले हथियार से सानतानु पर हमला कर दिया।पुलिस ने तुरंत घायल सानतानु को अगरतला के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां उन्होंने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।इस हत्या को लेकर सीपीआईएम ने आरोप लगाया है कि हमलावर आईपीएफटी के कार्यकर्ता थे। घटना के बाद मंडाई क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है।पुलिस मामले में छानबीन कर रही है।

आपको बता दें कि पिछले दिनों कन्नड़ की वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की कुछ बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।गौरी लंकेश कन्नड़ भाषा की एक साप्ताहिक पत्रिका निकालती थीं। जिसमें वह हिंदुत्व की राजनीतिक, सांप्रदायिकता का विरोध करती थी।गौरी लंकेश बेंगलूरू में अपने घर में मौजूद थीं। इसी दौरान अज्ञात हमलावरों ने पत्रकार गौरी को उनके घर में घुसकर 7 गोलियां मारीं थी। जिसमें तीन गोलियां उनकी छाती और गले में लगीं थी। उनका शव घर के बरामदे में बरामद हुआ। अभी तक मामले में आरोपियों की गिरफ्तार नहीं हो पाई है।

गौरतलब है कि गौरी ने अपने आखिरी लेख में भी फेक न्यूज को लेकर प्रधानमंत्री मोदी, बीजेपी और उनके मंत्रियों और आरएसएस पर निशाना साधा था। गौरी ने कहा था कि फेक न्यूज के जरिए आरएसएस और भाजपा के लोग झूठ फैला रहे हैं। गौरी लंकेश हत्या मामले की जांच एसआईटी कर रही है। वहीं गौरी लंकेश की हत्या के बाद बिहार में बदमाशों ने एक पत्रकार पर जानलेवा हमला किया था। पत्रकार को गंभीर हालात में अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। लेकिन डॉक्टरों ने घायल पत्रकार को बचा लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.