ईमान और किरदार मुसलमान के लिए बुनियादी शर्त है- शादमा ख़ान

October 3, 2018 by No Comments

#तुमपरिंदोंसेदिलबहलाया_करो सिपाहगिरी उस शख्स के लिए एक ख़तरनाक खेल है जो शराब ओ शबाब का दिल दादह हो”- यह तारीख़ी अल्फ़ाज़ अप्रैल 1157 में सलाहुद्दीन अय्यूबी ने अपने चचाज़ाद भाई ख़लीफ़ा अल सालेह अमीर सैफुद्दीन को लिखे थे उन दोनो ने सलिबीओं को दर परदा मदद और ज़र ओ जवाहरात का लालच दिया और सलाहुद्दीन अय्यूबी को शिकस्त देने की साज़िश की थी। सलीबी यही चाहते थे। उन्होंने हमला किया अल सालेह और सैफुद्दीन ने उनकी मदद की। सलाहुद्दीन अय्यूबी ने उन सबको शिकस्त दी।

अमीर सैफुद्दीन अपना माल ओ मता छोड़ कर भागा। उसकी ज़ाती ख़ैमागाह से रंग बिरंगे परिंदे, हसीन और जवान रक़्क़ासाएं और गाने वालियां, साज़ और साज़िंदे और शराब के मटके बरामद हुए। सलाहुद्दीन अय्यूबी ने परिंदों को, नाचने गाने वालियों को और उनके साज़िंदों को रिहा कर दिया। और अमीर सैफुद्दीन को इस मज़मून का ख़त लिखा. तुम दोनो ने कुफ़्फ़ार की पुश्त पनाही करके उनके हाथों मेरा नाम ओ निशान मिटाने की नापाक कोशिश की मगर यह न सोचा कि तुम्हारी यह साज़िश आलम-ए-इस्लाम का भी नाम ओ निशान मिटा सकती है।

तुम अगर मुझसे हसद करते थे तो मुझे क़त्ल करा दिया होता। तुम मुझपर दो क़ातिलाना हमले करा चुके हो। जबकि तुम्हारे दोनो हमले नाकाम रहे। अब एक और कोशिश करके देखो हो सकता है कामयाब हो जाओ। अगर तुम मुझे यह यकीन दिला दो कि मेरा सर तन से जुदा हो जाए तो इस्लाम और ज़्यादा सरबुलंद होगा तो रब्बे काबा की कसम मैं खुद तुम्हारी तलवार से अपना सर कटवाऊंगा और तुम्हारे कदमो मे रखने की वसियत करुंगा।

तुम जुगनू क़ौम के फ़र्द हो। फ़न-ए-सिपाहगिरी तुम्हारा क़ौमी #पेशा है। हर मुसलमान अल्लाह का सिपाही है। “मगर ईमान और किरदार बुनियादी शर्त है” तुम परिंदों से दिल बहलाया करो क्योंकि सिपाहगिरी उस शख्स के लिए एक ख़तरनाक खेल है जो शराब ओ शबाब का दिल दादह हो। मैं तुमसे दरख्वास्त करता हूं कि मेरे साथ तआवुन करो और जिहाद में शरीक हो जाओ। अगर यह न कर सको तो मेरी मुख़ालिफ़त से बाज़ आ जाओ। मैं तुम्हें कोई सज़ा नही दुंगा अल्लाह तुम्हारे गुनाह माफ़ करे ( सलाहुद्दीन अय्यूबी)

नोट:- इस पोस्ट को पढने के बाद अपनी क़ौम के आज के हालात पे ज़रूर ग़ौर कीजिएगा कि आज तबाही का सबब क्या है?

(इस लेख को शादमा ख़ान ने लिखा है, इस पोस्ट में प्रदर्शित विचार उनके निजी हैं)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *