RSS पर शेहला राशिद का तंज: “क्या संघी अपनी कही गई झूठी बातों पर विश्वास करते हैं ?”

January 6, 2018 by No Comments

पुणे के भीमा-कोरेगांव में हुई जातीय हिंसा के बाद राज्य में माहौल शांत हो गया है। लेकिन इस मामले में राजनीतिक दलों के एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप अभी जारी है।  एक तरफ जहाँ बीजेपी और दक्षिण पंथी संगठन इस हिंसा के सेहरा गुजरात के नवनिर्वाचित विधायक जिग्नेश मेवानी के सिर बाँधने की जी-तोड़ कोशिशें कर रही है।

वहीँ विपक्ष महाराष्ट्र में हुई हिंसा के लिए बीजेपी और आरएसएस को जिम्मेदार ठहरा रहा है। इस हिंसा के मामले में सोशल मीडिया पर भी यही चर्चा हो रही है कि ये सब आरएसएस की एक सोची समझी रणनीति के पीछे एक साजिश है। जेएनयूएसयू की पूर्व उपाध्यक्ष और छात्र नेता शेहला राशिद ने ट्विटर पर ट्वीट कर आरएसएस पर निशाना साधा है।

शेहला ने ट्वीट किया है कि हिंदू-मुस्लिम मंदिर-मस्जिद शामशान-कब्रिस्तान, आरएसएस के लिए कोई परेशानी का कारण नहीं है क्यूँकि उनके लिए इससे हिन्दू वोट बैंक बनाना आसान हो जाता है। लेकिन जब दलित अपने अधिकारों की मांग करते हैं, वे अचानक “विभाजनकारी राजनीति” पर उतर जाते हैं। क्यूँकि उन्होंने आरएसएस के “शांतिपूर्ण हिंदू राष्ट्र” के झूठ का भांडाफोड़ कर दिया।
इसके साथ शेहला ने एक अन्य ट्वीट में लिखा है कि क्या संघी अपने द्वारा कही गई झूठी बातों पर विश्वास करते हैं ? इससे पहले भी शेहला राशिद ने ट्विटर के जरिये महाराष्ट्र हिंसा को लेकर आरएसएस पर सीधा हमला बोला था।

उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि ये बहुत आश्चर्यजनक है कि टीवी मीडिया देश की जनता को गुमराह कर रहे हैं। राज्य में हुई हिंसा के पीछे जिग्नेश और उमर नहीं है, बल्कि राज्य में अशांति के पीछे आरएसएस का हाथ है।
आपको बता दें की दक्षिणपंथी संगठनों ने जिग्नेश मेवानी और उमर खालिद के खिलाफ उनके भाषण के बाद महाराष्ट्र में हिंसा बढ़ने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया है।

वहीँ मुंबई पुलिस ने राज्य में बने हिंसात्मक माहौल को देखते हुए उनके एक कार्यक्रम को भी रद्द कर दिया था। हालाँकि जिग्नेश मेवानी ने कल एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *