राम मंदिर मुद्दे पर कांग्रेस ने शिवसेना को पढ़ाया क़ानून का पाठ

October 21, 2018 by No Comments

2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले एक बार फिर राम मंदिर का मुद्दा गर्माता जा रहा है. इस मामले पर बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना भी सक्रिय हो गई है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे खुद अयोध्या जाएंगे और संतों से मुलाकात करेंगे. लेकिन इससे पहले शिवसेना के सांसद संजय राउत गुरुवार को अयोध्या जा रहे हैं. अयोध्या जाने से पहले उन्होंने इस मुद्दे पर बीजेपी को जमकर घेरा है. उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि 2019 से पहले बीजेपी राम मंदिर का निर्माण कराए नहीं तो सत्ता छोड़ दे.

अयोध्या के मसले पर कांग्रेस नेता का शिवसेना को नसीहत
कांग्रेस के नेता अशोक च्‍वहाण ने राम मंदिर को लेकर शिवसेना के हालिया रुख पर पलटवार करते हुए कहा कि देश के लोग उद्धव ठाकरे से समझदारी की उम्‍मीद न करें। शिवसेना का स्‍टैंड संवेदनशील मामलों पर हमेशा भड़काने वाला रहता है। अशोक चव्‍हान का बयान शिवसेना प्रमुख ठाकरे के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्‍होंने कहा कि मैं 25 नवंबर को अयोध्‍या का दौरा करूंगा।

शिवसेना राम मंदिर पर कर रही है राजनीति

कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा है कि शिवसेना और भाजपा इसका राजनीतिक फायदा उठाकर जनता से उनके पक्ष में वोट करने को कह रहे हैं। शिवसेना राम मंदिर के मुद्दे पर राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है। लोकसभा चुनाव में शिवसेना राम मंदिर के नाम पर प्रदेश में वोटों के ध्रुवीकरण में जुटी है। 2014 के चुनाव के बाद से लेकर अभी तक शिवसेना को भगवान राम का ख्‍याल नहीं आया। जबकि कांग्रेस ने इस मुद्दे पर हमेशा गंभीरता का परिचय दिया है और हमारी पार्टी इसका लाभ नहीं उठाना चाहेगी।

भागवत ने राम मंदिर बनाने का फिर किया आह्वान
दरअसल विजयदशमी उत्सव में अपने वार्षिक संबोधन में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने राम मंदिर बनाने का एक बार फिर से आह्वान किया। इस बार उन्होंने कहा कि राम मंदिर मसले पर चल रही राजनीति को खत्म कर, इसे तुरंत बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर जरूरत हो, तो सरकार राम मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *