चाचा को भतीजे ने दिया करारा झटका,अब शिवपाल ना इधर के रहे ना उधर के

September 24, 2018 by No Comments

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज दिल्ली के जंतर-मंतर पर साइकिल रैली के जरिए चुनाव 2019 के प्रचार अभियान की शुरुआत करने जा रहे हैं। इस दौरान पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव, शिवपाल यादव के साथ नहीं बल्कि अपने बेटे अखिलेश यादव के साथ दिखे।

समाजवादी पार्टी में शिवपाल यादव और अखिलेश यादव के बीच चल रही रस्‍साकशी के बीच मुलायम सिंह यादव ने अभी तक चुप्पी साध रखी है। लेकिन शिवपाल यादव के सेक्‍युलर मोर्चा बनाए जाने के बाद मुलायम, अखिलेश यादव की साइकिल रैली में पहुंचे।

सूत्रों के मुताबिक मुलायम सिंह का इस तरह अखिलेश यादव की साइकिल रैली में शामिल होना, एक तरह से शिवपाल समेत सपा कैडर को पूरी तरह से साफ संदेश है कि वह किस तरफ खड़े हैं।मुलायम सिंह यादव ने अभी तक शिवपाल यादव के सेक्‍युलर मोर्चे के बारे में कोई टिप्‍पणी नहीं की है। वहीं समाजवादी पार्टी में उपेक्षा से कुपित होकर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन करने वाले शिवपाल सिंह यादव की पार्टी का अलग झंडा भी बन गया है।

समाजवादी पार्टी से इटावा के जसवंतनगर से विधायक शिवपाल के मोर्चा के झंडा में एक तरफ उनकी तस्वीर है, तो दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की तस्वीर थी। शिवपाल यादव ने यह भी घोषणा की थी कि मुलायम सिंह उनके बैनर तले मैनपुरी से चुनाव लड़ेंगे। हालांकि सपा इस सीट से उनकी उम्‍मीदवारी का बहुत पहले ही ऐलान कर चुकी है।


गौरतलब है कि पिछले 2 महीने से यूपी में समाजवादी पार्टी साइकिल यात्रा निकाल रही है और इस साइकिल यात्रा के माध्यम से यूपी की योगी सरकार और केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ समाजवादी पार्टी ताल ठोक रही है। खुद अखिलेश यादव भी यूपी के कई जगहों पर साइकिल रैली में शामिल हुए हैं।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेंद्र चौधरी ने बताया कि उत्तर प्रदेश में विगत एक माह से राज्य के विभिन्‍न जनपदों में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा साईकिल यात्रा के जरिये लोकतंत्र एवं देश बचाने तथा जनहित में विकास परक नीतियों को लागू कराने के लिए विधानसभा क्षेत्रों में अखिलेश यादव को पहुंचाने का अभियान चलाया जा रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *