राहुल के समर्थन में आयी शिवसेना-‘सिर्फ़ गुजरात ही नहीं पूरे देश में विकास पागल हो गया है’

मुंबई: कांग्रेस पार्टी ने एक ऐसा नारा ट्रेंड करा लिया है कि भाजपा वाले समझ नहीं पा रहे कि इसका तोड़ क्या निकालें. भाजपा की पूरी आईटी सेल इसी कोशिश में है कि किसी तरह से गुजराती भाषा में “विकास गांडो थायो छे” का ट्रेंड होना रोका जाए. पर मामला यहाँ उल्टा हो गया है और बजाय रुकने के अब इसका हिंदी वर्शन भी निकल आया है जो “विकास पागल हो गया है” है.

हालाँकि अब ये सिर्फ़ ट्विटर और सोशल मीडिया तक ही नहीं है. अब ये नारा उसके भी बाहर आ चुका है और आम लोगों की ज़बान पर ये जोक वग़ैरा के ज़रिये चलने लगा है. भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने भी इसी नारे का इस्तेमाल करते हुए भाजपा सरकारों की आलोचना की है. सामना में छपे एक लेख के मुताबिक़ शिवसेना ने कहा कि ”गुजरात के विकास का क्या हुआ? इस सवाल पर गुजरात के लोग कह रहे हैं कि विकास पागल हो गया है. सिर्फ गुजरात ही क्यों पूरे देश में विकास पागल हो गया है. ऐसी तस्वीर बीजेपी के बड़े नेता सामने ला रहे हैं.”

इतना ही नहीं शिवसेना ने ये भी लिखा है कि राहुल गाँधी ने कहा है कि विकास को लेकर बड़ी-बड़ी बातें इस क़दर की गईं कि विकास पागल हो गया है.

शिवसेना ने कहा है कि जब मनमोहन सिंह और पी चिदंबरम जैसे लोगों ने अर्थव्यवस्था की ख़ामियाँ बतायीं तो उन्हें ही पागल कह दिया गया लेकिन अब भाजपा के पूर्व वित्त मंत्री कुछ ऐसा ही कह रहे हैं…अब यशवंत सिन्हा बेईमान या राष्ट्रद्रोही ठहराए जा सकते हैं.

शिवसेना ने आगे लिखा है कि अगर यशवंत सिन्हा ग़लत हैं तो उनके आरोप को झूठा साबित करो. सामना में कहा गया है कि जब हमने ऐसा कहा था तो हमें भी देशद्रोही कह दिया गया था, अब यशवंत सिन्हा ठहराए जाने वाले हैं.

यशवंत सिन्हा ने की केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना

इसके पहले यशवंत सिन्हा ने अपनी ही पार्टी की सरकार की कई मुद्दों पर आलोचना की है. पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने अंग्रेज़ी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में लिखा है कि नोटबंदी एक “निरंतर आर्थिक आपदा” साबित हुई है. उन्होंने सेवा और माल कर के लागू करने के तरीक़ों की भी तीख़ी आलोचना की है. उनकी इस बात का कांग्रेस पार्टी के वरिष्ट नेताओं ने भी समर्थन किया. सीपीएम के सीताराम येचुरी ने भी यशवंत सिन्हा की बातों का समर्थन किया. इसके अलावा भाजपा नेता शत्रुघन सिन्हा ने भी यशवंत सिन्हा का समर्थन किया है.

यशवंत सिन्हा ने आज कहा,”हम इससे पहले की सरकार को दोष नहीं दे सकते क्यूंकि हमें पूरा मौक़ा मिला है…1.5 साल से अर्थव्यवस्था की हालत धीमी थी और नोटबंदी ने आकर इसमें और असर डाला.उन्होंने कहा कि देश नोटबंदी से उभरा भी नहीं था कि GST आ गया”.उन्होंने राजनाथ सिंह और पियूष गोयल द्वारा की गयी उनकी आलोचना पर कहा कि हो सकता है राजनाथ सिंह और पियूष गोयल अर्थव्यवस्था मुझसे बेहतर समझते हों तो उन्हें ये मालूम हो कि भारत विश्व इकॉनमी की बैकबोन है. यशवंत सिन्हा ने कहा कि मैं उनसे पोलाइटली उनकी बात से इनकार करता हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.