बढ़ रहे प्रदूषण को देख दिल्ली सरकार राजधानी में फिर से लागू कर सकती है ऑड-ईवन फॉर्मूला

November 9, 2017 by No Comments

नई दिल्ली: दिल्‍ली में बढ़ रहे प्रदूषण से जनता को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जहरीले स्मॉग और प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली सरकार एक बार फिर ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू करने की योजना बना रही है।
दिल्ली में 13 से 17 नवंबर तक ऑड-ईवन स्कीम लागू की जाएगी। दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बुधवार शाम ट्रांसपोर्ट विभाग डीपीसी और दिल्ली के सभी डिविजनल कमिश्नर की बैठक बुलाई है। जिसके बाद दिल्ली सरकार आज सवा साढ़े चार बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी। माना जा रहा है कि इसमें इसका आधिकारिक ऐलान किया जा सकता है। इस मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने राजधानी में ट्रकों की एंट्री पर रोक लगा दी है और सिर्फ कुछ जरूरत की चीजें लाने वाले ट्रकों को ही दिल्‍ली में एंट्री की इजाजत दी गई है।

इसके अलावा उन्‍होंने कहा कि जब तक पंजाब और हरियाणा में फसल में आग लगाने की प्रथा को रोका नहीं जाएगी दिल्ली हर साल इस समस्या का हल नहीं निकाल पाएगी। पूरे उत्तर भारत में इस धुएं की वजह मुसीबत आ रही है और इस जहरीली हवा से पूरा उत्‍तर-भारत बीमार होता रहेगा।

गौरतलब है कि दिल्ली में नवंबर और दिसंबर में जहरीले स्मॉग के कारण प्रदूषण का लेवल काफी बढ़ जाता है। जिसके चलते दिल्ली सरकार इस बार ऑड-ईवन को नए नियमों के साथ लागू करने की तैयारी में है। इस बार दो-पहिया वाहनों को छूट नहीं दी जाएगी। इससे पहले दिल्ली में साल 2015 और साल 2016 में ऑड इवन लागू किया गया था। जिसके बाद सड़कों पर गाड़ियों की संख्या में बेहद कमी आई थी, जिससे राजधानी में ट्रैफिक जाम की स्थिति में भी काफी सुधार हुआ था।

 

बता दें कि नैशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (NGT) ने दिल्ली में प्रदूषण के बढ़ते स्तर को लेकर केजरीवाल सरकार को जमकर फटकार लगाई हैै। एनजीटी ने इसके लिए केंद्र सरकार को फटकार लगाई है। एनजीटी ने केंद्र सरकार और पड़ोसी राज्यों के रुख को ‘शर्मनाक’ बताते हुए समस्या के प्रति उनकी गंभीरता पर भी सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि आखिर प्रदूषण कम करने के लिए हेलिकॉप्टर से आर्टिफिशल बारिश क्यों नहीं करवाई जा रही है?

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *