UP उपचुनाव नहीं आने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारी में हैं सपा-बसपा

March 8, 2018 by No Comments

लोकसभा चुनाव में अब कुछ एक साल ही बचा है और ऐसे में विपक्ष गठबंधन बनाने में लग गया है। विपक्ष की वो पार्टियाँ जो कभी एक दूसरे की कट्टर विरोधी थीं वो एक रास्ते पर आ रही हैं। असल में सबसे बड़ी ख़बर आ रही है उत्तर प्रदेश से। उत्तर प्रदेश की राजनीति में जो दो पार्टियाँ बहुत अहम मानी जाती हैं वो हैं समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी। ये दोनों पार्टियां पहले एक दूसरे की कट्टर विरोधी मानी जाती थीं लेकिन अब ये एक साथ आ रही हैं।

फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में बसपा ने भाजपा के विरोध के नाम पर सपा को समर्थन दिया है। वहीं पीस पार्टी, निषाद पार्टी भी सपा के साथ आ गयी हैं। बात सिर्फ इस उपचुनाव की नहीं है, बात इससे कहीं बड़ी है। अगर लोकसभा के इन उपचुनावों में सपा और बसपा साथ आते हैं तो इसका मतलब ये है कि आने वाले लोकसभा चुनाव भाजपा के लिए मुश्किल होने वाले हैं।

हालांकि कांग्रेस इस पूरे माहौल को ख़ामोशी से देख रही है। ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस हर क़दम फूंक कर रखना चाहती है लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता इससे ख़ुश नज़र आ रहे हैं। वहीं भाजपा नेता ऊपरी तौर पर ये तो कह रहे हैं कि इससे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा लेकिन वो भी जानते हैं कि अगर सपा बसपा साथ आ जाएंगी तो उनके लिए उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों पर मुश्किल होगी। दूसरी ओर NDA के साथी भी अब साथ छोड़ रहे हैं. जीतन राम मांझी ने पहले ही साथ छोड़ दिया है और आंध्र प्रदेश की तेलुगु देशम पार्टी ने भी NDA से अलग होने के लिए रास्ता खोल लिया है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *