आंध्र प्रदेश: विशेष राज्य की मांग कर रहे YSR कांग्रेस के 5 सांसदों ने दिया इस्तीफा, मोदी सरकार को बताया ‘नाकाम’

नई दिल्ली: वाईएसआर कांग्रेस के पांच सांसदों ने शुक्रवार को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को इस्तीफा सौंप दिया है। इन पांच सांसदों ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर इस्तीफा दिया है। इन सांसदों के नाम हैं वारा प्रसाद राव वेलगापल्ली, वाई वी सुभा रेड्डी और पी वी मिधुन रेड्डी, वाईएस अविनाश रेड्डी और सदन में पार्टी के नेता एम राजमोहन रेड्डी। इन सांसदों ने लोकसभा अध्यक्ष के चैम्बर में पहुंचकर उनको अपना इस्तीफा सौंपा। 
जिसमें कहा गया है, ‘मैं तत्काल प्रभाव से अपनी सीट से इस्तीफा देता हूं.’ इससे पहले वाईएसआर कांग्रेस के नेता जगन मोहन रेड्डी ने ट्वीट किया, ‘हम जो कहते हैं वो करते हैं. वाईएसआर कांग्रेस के सांसद आज इस्तीफा सौंप रहे हैं। उन्होंने कहा की मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू को चुनौती है कि वह टीडीपी सांसदों का इस्तीफा करवाएं और आंध्र प्रदेश के लिए विशेष दर्जे की जायज मांग को लेकर राज्य के लोगों के साथ एकजुट होकर खड़े हों।

आपको बता दें कि लोकसभा में वाईएसआर कांग्रेस के कुल 9 सांसद हैं, जो घटकर अब 4 ही रह जाएंगे। वहीं राज्यसभा में वाईएसआर के दो सांसद हैं। आपको बता दें कि टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस विशेष राज्य के मुद्दे पर एनडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस भी दे चुकी है। वहीं इस मुद्दे पर टीडीपी एनडीए से अलग हो गई है। वहीं टीडीपी के सांसद भी संसद के बाहर भी लगातार विरोध कर रहे हैं. टीडीपी सांसदों ने विशेष राज्य की मांग को लेकर संसद में चर्चा हो इसके लिए टीडीपी सांसद लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के कमरे में धरने पर बैठ गए हैं। 

इस्तीफा देने के बाद केंद्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए इन सांसदों ने मीडिया से कहा था कि वे आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने में मोदी सरकार की ‘नाकामी’ के विरोध में इस्तीफा दे रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.