छेड़खानी का विरोध किया तो लड़कों के माँ-बाप स्कूल में घुसे और लड़कियों को बुरी तरह पीटा…

October 7, 2018 by No Comments

इस समय बॉलीवुड के गलियारों में एक मुद्दा ज़ोरों पर है और वो है तनुश्री दत्ता और नाना पाटेकर का मुद्दा. तनुश्री ने आरोप लगाया है कि नाना पाटेकर ने एक फिल्म के सेट पर उनसे बदतमीज़ी करने की कोशिश की जिस पर नाना ने इस आरोप को झूठा बताया है. मामला दस साल पुराना है लेकिन तब जब तनुश्री ने इस मामले को उठाया था तब उन्हें ही बुरा-भला कहा गया था और अब इतने साल बाद जब फिर ये मुद्दा उठा है तब भी बॉलीवुड की पुरुषवादी सोच तनुश्री के ख़िलाफ़ खड़ी हो गयी है. जहां बॉलीवुड में पीड़ित को ही दबाने की कोशिश हो रही है, बिहार के एक छोटे से इलाक़े में इससे बढ़कर पीड़ित पक्ष के ख़िलाफ़ ही हिंसा हो रही है.

हम बात कर रहे हैं बिहार के सुपौल में हुई एक घटना की. बिहार के सुपौल में जब कुछ छात्राओं ने छेड़छाड़ का विरोध किया तो लड़कियों को मारपीट का सामना करना पड़ा. इस घटना में 55 छात्राएं घायल हुई हैं जिनमें से 34 को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया है.

घटना सुपौल के त्रिवेणीगंज स्थित बालिका कस्तूरबा आवासीय विद्यालय डपरखा की है.इस स्कूल में १०० लड़कियाँ पढ़ती हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ कुछ मनचले लड़कों ने स्कूल की दीवार पर अपशब्द लिख दिए.इस घटना से छात्राएं नाराज़ थीं. जब छात्राओं ने इसका विरोध किया तो मनचलों के अभिभावक स्कूल में घुस आए और छात्राओं की पिटाई कर दी. इस घटना में 55 लडकियां घायल हुई हैं जिनमें से 34 का इलाज अस्पताल में चल रहा है.

वार्डन ने इस बारे में बताया कि स्कूल में भीड़ ज़बरदस्ती घुसी और इसमें महिलाएँ और बच्चे भी शामिल थे. बताया कि स्कूल में जबरदस्ती घुसी भीड़ में महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे. भीड़ लाठी, ईंट, डंडा लेकर स्कूल में घुसी थी और उन्होंने बच्चियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. घटना के बाद ज़िला प्रशासन के अधिकारी घटनास्थल पर गश्त कर रहे हैं.

इस घटना से साफ़ हो जाता है कि हमारे समाज में किस तरह लड़कियों को छेड़खानी से लेकर यौन हिंसा का विरोध करने पर कैसे नतीजे भुगतने पड़ते हैं फिर वो मामला बॉलीवुड का हो या फिर किसी छोटे से क़स्बे का. हम उम्मीद करेंगे कि सरकार दोषियों को उचित सज़ा दिलाने का काम करेगी.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *