हर किसी को चोर या देशद्रोही कहना गिरी हुई भाषण कला है: मनमोहन सिंह

November 7, 2017 by No Comments

गुजरात: केंद्र सरकार द्वारा की गई नोटबंदी को कल एक साल पूरा हो जायेगा। नोटबंदी को भ्रष्टाचार और कालाधन खत्म करने का नाम देकर बीजेपी कल देश में जश्न मनाने जा रही है। वहीं विपक्ष नोटबंदी को सदी का सबसे बड़ा घोटाला करार देते हुए कल देश में ‘काला दिवस’ मनाने की घोषणा की है। इस बीच पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने नोटबंदी को विनाशकारी आर्थिक नीति करार देते हुए कहा कि मोदी इसे अपनी भारी गलती के रूप में माने और अर्थव्यवस्था के पुनर्निर्माण के लिए आम सहमति के साथ काम करें।

उन्होंने कहा कि भारत जैसे विविधतापूर्ण देश में यह ‘अब तक की सबसे बड़ी सामाजिक विपत्ति’ साबित होगी। नोटबंदी को देश की अर्थव्यवस्था के लिए हानिकारक बताते हुए उन्होंने कहा कि मैं नोटबंदी के दीर्घकालिक असर के बारे में चिंतित हूं। हालांकि जीडीपी में हाल की गिरावट के बाद सुधार दिख रही है लेकिन हमारे आर्थिक विकास की प्रकृति के लिए बढ़ती असमानता एक बड़ा खतरा है। नोटबंदी इसे बढ़ा सकती है, जिसे भविष्य में सुधारना कठिन होगा।

मनमोहन ने अहमदाबाद में कहा कि मुझे ये गर्व से कह सकता हूँ कि हमने 14 करोड़ लोगों को ग़रीबी से उबारा है. उन्होंने बुलेट ट्रेन को ग़ैर-ज़रूरी बताते हुए कहा कि क्या प्रधानमंत्री को बड़ी लाइन की हाई स्पीड ट्रेनों को अपग्रेड करने के बारे में नहीं सोचना चाहिए था. पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि हर किसी को चोर या देशद्रोही समझ कर शक करना बहुत गिरी हुए लेवल की भाषण-कला है और इससे लोकतान्त्रिक बहस को नुक़सान पहुँच रहा है. उन्होंने कहा कि सरकार को आर्थिक प्राथमिकताओं को दुरुस्त करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अभी तक ये साफ नहीं है कि कैशलेस अर्थव्यवस्था का लक्ष्य छोटे बिज़नेस को बड़ा बनाने में सक्षम होगा। लेकिन सरकार को इसे प्राथमिकता बनाना चाहिए। आपको बता दें की आज मनमोहन सिंह गुजरात के दौरे पर हैं।

नोटबंदी के एक साल पूरे होने होने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सूरत में काला दिवस मनाने वाले हैं। पार्टी ने कहा कि सुबह में शाहीबाग इलाके में सरदार पटेल स्मारक परिसर में सत्र का आयोजन किया जा रहा है। कांग्रेस ने अपने महासचिवों को पूरे राज्य में ब्लैक डे मनाने के लिए कहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की थी और कहा था कि इससे काले धन, भ्रष्टाचार, नकली करेंसी पर शिकंजा कसेगी। लेकिन अभी तक ऐसा कुछ देखने को नहीं मिल रहा है। इसके साथ जीएसटी ने भी भारतीय अर्थव्यवस्था को बहुत नुक्सान पहुंचाया है।

जीएसटी को लेकर गुजरात के व्यापारियों को नुकसान हुआ था और सबसे ज्यादा विरोध भी वहीं देखने को मिला था। देखा जाए तो पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य में नोटबंदी और जीएसटी को लेकर कार्यक्रम आयोजित करना बीजेपी के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *