अपनी ही पार्टी के नेताओं पर बरसे सुब्रमण्यम स्वामी, उदित राज ने भी दिया बयान…..

October 17, 2018 by No Comments

सबरीमाला मंदिर में औरतों को प्रवेश करने को लेकर सर्वोच्च न्यायलय ने फ़ैसला ले लिया है और महिलाओं को मंदिर के अन्दर जाने की इजाज़त दे दी है. इसको लेकर मगर राजनीति भी शुरू हो गयी है और कट्टरवादी हिन्दू संघठन ने इसका विरोध किया है. ऐसे में मंदिर के रास्ते पर कुछ महिलाएँ भी इन लोगों के इशारे पर खड़ी हो गयी हैं और वो जो पूजा करने मंदिर में जाना चाहती हैं, उन्हें रोक रही हैं.

इस मुद्दे पर भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने बयान दिया है. उन्होंने कहा,” सुप्रीम कोर्ट ने फ़ैसला ले लिया है लेकिन अब आप कह रहे हैं ये आपकी परम्परा है.ट्रिपल तलाक़ भी इसी तरह की परम्परा है, हर कोई तारीफ़ कर रहा था जब इसे ख़त्म किया गया.. वही हिन्दू अब सड़कों पर हैं.” वो कहते हैं कि ये हिन्दू पुनर्जागरण और अंधकारवाद के बीच लड़ाई है. पुनर्जागरण कहता है कि सभी हिन्दू एक बराबर हैं क्यूँकि आज कोई ब्राह्मण बुद्धजीवी नहीं है, वो सिनेमा में हैं, व्यापार में हैं.. सब जगह हैं.. कहाँ लिखा है कि जाति जन्म से होती है, शास्त्रों को बदला जा सकता है.

भाजपा नेता उदित राज भी पार्टी के उन नेताओं से नाराज़ हैं जो सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी चाहते हैं. उन्होंने कहा कि मैंने देखा है कि लोग बराबरी के लिए लड़ते हैं..ग़ुलामी या असमानता के लिए नहीं.

वो कहते हैं कि एक तरफ़ पुरुष शोषण कर रहे हैं वहीं महिलाएँ अपने अधिकारों के लिए लड़ रही हैं…ये पूरी दुनिया में पहली बार हो रहा है कि कुछ लोग ग़ुलामी के लिए लड़ रहे हैं, असमानता के लिए लड़ रहे हैं, औरतें औरतों को रोक रही हैं..कह रही हैं कि हम मर्दों से कमज़ोर हैं. उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता देश में क्या हो रहा है.

राज की नाराज़गी इस बात को लेकर थी कि महिलाएँ उन महिलाओं को मंदिर में प्रवेश करने से क्यूँ रोक रही हैं जो प्रवेश करना चाहती हैं. आपको बता दें कि केरल की पिनाराई विजयन सरकार ने साफ़ कर दिया है कि अदालत के आदेश का सम्मान किया जाएगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *