पढ़ें: लालू यादव को याद कर भावुक हुए तेजस्वी यादव ने फेसबुक पर लिखी ‘दिल की बात’

April 20, 2018 by No Comments

आरजेडी प्रमुख लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की सगाई 18 अप्रैल को पटना में ऐश्वर्या राय से हुई। इस मौके पर लालू प्रसाद यादव मौजूद नहीं थे, वो चारा घोटाले में सज़ा काट रहे हैं और फिलहाल लालू इस समय एम्स में भर्ती हैं जहां उनका इलाज चल रहा है। इस मौके पर परिवार वालों ने लालू यादव को काफी याद किया। लालू यादव की अनुपस्थिति पर उनके बेटे और बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा है:

“दिल की बात- तेज़ भाई की सगाई और पिता जी की अनुपस्थिति”

हम सभी नौ भाई-बहनों ने जीवन के हर सफर की शुरुआत हमेशा हमने पिताजी के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लेकर ही की है, लेकिन कल मन थोड़ा व्यथित था कि तेज़ भाई के नए सफर की शुरुआत में उनका विराट व्यक्तित्व शारीरिक रूप से ख़ुशी की घडी में हमारे साथ शरीक नहीं था। सुख के क्षणों में हमने पिता की कमी महसूस की। हालाँकि मानसिक और वैचारिक रूप से सदैव वो हमारे अंग-संग रहते है।

बचपन से सुनते आया हूँ वो हमें अक्सर कहते है, जो जनसेवा को समर्पित हो उसका कोई निजी जीवन नहीं होता, निजी खुशियां नहीं होती, निजी दुःख नहीं होता। जन-जन के संघर्ष के आगे परिवार की खुशियों का कोई मोल नहीं है। भाई के सगाई समारोह में पिता जी की यही बात बार-बार याद आ रही थी। भाई के नए सफर पर पिता के आशीर्वाद का हाथ उनके सिर पर नहीं था, ये शायद पहली बार था। पिता की कमी बहुत खली, लेकिन उनकी ये सीख हमारे साथ रही की निजी सुख-दुःख से ऊपर होकर हमारा जीवन बिहार के लिए समर्पित है और रहेगा।

कई बार समझौते आपको और आपके परिवार को सुकून के पल और खुशियां दे जाते हैं । मेरे पिता ने आवाम के हितों से कभी समझौता नहीं किया। विकट से विकट परिस्थिति में भी भी अपने विचार, नीति और सिद्धांत को नहीं छोड़ा और यही कारण है कि सुखद क्षण में वो हमारे साथ नहीं है।

मुझे गर्व की अनुभूति होती है कि मैं एक ऐसे पिता का बेटा हूं जिसने अपना जीवन बिहार के लिए, बिहार के लोगों के लिए, शोषितों, पीड़ितों, वंचितो और दबे-कुचलों के लिए समर्पित कर दिया जिसे जेल जाना मंजूर था लेकिन झुकना नहीं।

बिहार की इस संघर्ष यात्रा में ख़ुशी के पल भी कुछ उदास हैं लेकिन हमारे साथ हमारे पिताजी का दिया आत्मबल और विश्वास है। हम भी साधारण इंसान है इसलिए दुख हुआ लेकिन बिहार के लोगों के मान-सम्मान की लड़ाई मे यह दुख बहुत छोटा पड़ गया।

सत्यमेव जयते।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *