जिसके पास ये रेखा है वो तो होने वाला है मालामाल…

October 17, 2018 by No Comments

हम में से बहुत से लोग इस बात पर अपनी राय एक पाते हैं कि हाथों की लकीरों में ही तक़दीर छुपी होती है. हाथ की रेखा की बात करें तो इसमें विशेष स्थान होता है सूर्य रेखा का. इंसान की ज़िन्दगी में इस रेखा का विशेष महत्त्व होता है और ये विभिन्न स्तर पार इंसानी ज़िन्दगी को प्रभावित करती है. हम आपको बताते हैं कि सूर्य-रेखा क्या कहती है. यदि सूर्य-रेखा मणिबन्ध या उसके समीप से शुरू होती है और भाग्य-रेखा के निकट समानान्तर अपने स्थान को जा रही हो तो ये बहुत अच्छी मानी जाती है. इसे सबसे उत्तम माना गया है. ऐसी रेखा वाले व्यक्ति स्त्री हों या पुरूष प्रतिभा और भाग्य का मेल होने से जिस काम को भी करते हैं उसमें पूर्णतः सफल होते हैं.

इसके विपरीत यदि सूर्य-रेखा चन्द्रक्षेत्र से शुरू होती है तो इसमें कोई शक नहीं है कि भाग्य अच्छा रहेगा और आगे चलकर चमकेगा. पर उसकी यह उन्नति निजी परिश्रम द्वारा न होकर दूसरों की इच्छा और सहायता पर ज़्यादा निर्भर करती है. अब आने वाले जीवन में उसे कौन सहारा देगाये तो वक़्त ही बतायेगा. ऐसा बताया जाता है कि चन्द्रक्षेत्र से शुरू होकर अनामिका तक पहुंचने वाली गहरी सूर्यरेखा के सम्बन्ध में विशेष ध्‍यान रखना चाहिए। ऐसे व्यक्ति का जीवन अनेक घटनाओं से भरा और संदेह पूर्ण होता है।उसमें बहुत से परिवर्तन भी होते हैं, किन्तु यदि रेखा चन्द्रस्थान से निकलकर भाग्य-रेखा के समानान्तर जा रही हो तो भविष्य सुखमय हो सकता है।

यदि प्रेम बाधक न हो और विचारों में दृढ़ता होने के साथ मस्‍तिष्‍क रेखा भी अपना फल शुभ दे रही हो। इस तरह का व्यक्ति तेजस्वी और प्रसन्नचित होता है. परन्तु ऐसे लोगों के साथ एक परेशानी भी होती है और वो ये कि इनके विचार कभी स्थिर नहीं होते. स्त्री या पुरूषों का उस पर अधिक प्रभाव पड़ता है और अनायास ही वह अपने पूर्वनिश्चित विचारों को बदल देता है। वह यश पाने की इच्छा करता है, किन्तु अपने संकल्प पर दृढ़ न रह सकने के कारण अपने प्रयत्नों अधिक सफल नहीं होता।

(इस आलेख में कही गयी बातें संभावनाओं के आधार पर कही गयी हैं, इसके आधार पर किसी नतीजे पर पहुँचना आपकी अपनी ज़िम्मेदारी होगी)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *