ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #NationalGirlChildDay: हर लड़की को उसके जीवन में आगे बढ़ने के समान अवसर दिए जाएं..

January 24, 2018 by No Comments

आज के दिन देश में सशक्त महिलाओं में से एक इंदिरा गांधी को २४ जनवरी को पहली बार प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठी थी। देश आज भी इंदिरा गांधी को नारी शक्ति के रूप में याद करता है। आज के दिन को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर सोशल मीडिया पर #NationalGirlChildDay हैशटैग ट्रेंड कर रहा है। जहाँ पर सोशल मीडिया यूज़र्स बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और बेटी है तो कल है जैसे मुद्दे पर बात कर रहे हैं।

पूर्व रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्वीट कर लिखा है राष्ट्रीय बालिका दिवस लड़कियों की शानदार उपलब्धियों के लिए मनाया जाता है है और लिंग आधारित रूढ़िवादी सोच से जुड़ी चुनौतियों का सामना करता है। हर लड़की को एक पोषित और उसके जीवन में आगे बढ़ने के समान अवसर दिए जाएं।

मोहम्मद कैफ ने ट्वीट किया है कि लैंगिक असमानताओं से लड़कर सामाजिक चुनौतियों से लड़कर बेटी को बचाने के लिए कहा, क्यूंकि बेटी है तो कल है।
बीएसएनएल के आधिकारिक अकाउंट से ट्वीट किया गया है कि इस मौके पर हम सब को प्रण लेना चाहिए कि हम इस सामाजिक असमानताओं को मिटा कर समानता को मुख्य रखेंगे।

क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट करके लिखा है यह समय समानता फैलाने का है। मनाएं बेटी बचाओ, जीवन सजाऊ के जरिए लड़कियों के लिए जश्न मनाना चाहिए। उन्होंने एक खूबसूरत कविता भी पेश की है।

 एक सोशल मीडिया यूज़र ने ट्वीट किया है कि #NationalGirlChildDay लड़की को बचाने के लिए सर्वोत्तम अभ्यास दहेज मुक्त विवाह है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने ट्वीट किया कि आज #NationalGirlChildDay है,हमें #GirlChild को बचाना चाहिए। Girls Not Brides नाम के ट्विटर अकाउंट ने चाइल्ड मैरिज पर ट्वीट करते हुए कहा कि लड़कियों को जेंडर इक्वलिटी के मामले में सिर्फ खुद के लिए ही खड़ा नहीं होना चाहिए। यही कारण है कि हम लड़कों को यौन अधिकार, समानता और समापन के बारे में सिखाने के लिए तकनीक का उपयोग करके इस कार्यक्रम को पसंद करते हैं।

दूरदर्शन न्यूज़ ने ट्वीट किया है कि लिंग अनुपात स्तरों के प्रति जागरूकता बढ़ाने और लड़कियों के सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से, #NationalGirlChildday को देशभर में मनाया जाना चाहिए।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *